DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेड़ से गिरी किशोरी है बेहोश, बिना सही इलाज के दूसरे अस्पताल भेज रहे डॉक्टर

पीएमसीएच में इलाज के लिए पहुंची सजदा खातून का बेहतर इलाज करने के बजाय उसे डॉक्टर निजी अस्पताल जाने की सलाह दे रहे हैं। तारापुर गिरिडीह की रहने वाली सजदा पढ़ाई के साथ-साथ परिवार की मदद भी करती है। इसी क्रम में वो गुरुवार की सुबह महुआ पेड़ पर चढ़ी और महुआ के फल तोड़ने लगी ताकि इसे बेच कर घर का राशन लिया जा सके। इस बीच वो पेड़ से गिर पड़ी और उसे पीएमसीएच में भर्ती कराया गया, लेकिन गुरुवार देर शाम तक उसे होश नहीं आया। परिजन इजहाक बताते हैं कि सुबह नौ बजे भतीजी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। लेकिन सिटी स्कैन जांच छोड़ कोई जांच नहीं की गई है। बिना मर्ज जाने डॉक्टर दवा दे रहे हैं। पूछने पर कहते है कि सजदा की स्थिति नाजूक बनी हुई है। इसके सिर पर चोट लगी है इसे दूसरे अच्छे अस्पताल में ले जाए। इस मामले को लेकर जब दूसरे डॉक्टर से बात की गई तो उनलोगों का कहना है कि फिलहाल जांच चल रही है, लेकिन स्थिति गंभीर बनी हुई है। गरीबी ने बना दिया है बेबस सजदा खातून के तीन भाई-बहन है, जिसमें सजदा सबसे बड़ी है। पिता खेती कर किसी तरह परिवार का पालन-पोषण करते हैं। ऐसे में सजदा के पिता रसूल मियां बेटी को बड़े अस्पताल लेकर जाने में असमर्थ है। वहीं अस्पताल के डॉक्टरों ने सजदा को दूसरी जगह ले जाने की बात कह अपनी जिम्मेदारी से पीछे हट गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Doctors without sending the right treatment to another hospital