DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रमजान में बढ़ी फलो की मांग, विदेशी फलो से पटा बाजार

रमजान शुरु होते ही बोकारो के दुंदीबाजार, सेक्टर 4, चास सहित अन्य बाजारो में फलों की खपत बढ़ गई है। जिसे देखते हुए बाजार में फल की दुकानें सज गई हैं। रोजेदार इफ्तार के वक्त आम, सेब, केला, रहे फल खरबूजा समेत कई फलों का रोजेदार सेवन करते हैं। इस वजह से फलों की कीमत में मामूली इजाफा भी हुआ है। वावजूद लोग फलों की खरीददारी करने उमड़ रहे हैं। इफ्तार के लिए लोग सेब, खरबूजा, तरबूज, केला, लीची समेत फलों को भी दस्तरख्वान पर जगह देने लगे हैं। सेक्टर12 निवासी रोजेदार अब्दुल अंसारी ने बताया कि दिन भर के रोजे के बाद फलों से इफ्तार करना ताजगी भरा होता है। वहीं अंसारी मुहल्ला के महबुब आलम ने बताया कि फलों की कीमत तो बढ़ी है, लेकिन रोजे में फलों का महत्व भी अधिक होता है। उकरीद के उमर का कहना है कि दिन भर खर्च हुई ऊर्जा की पूर्ति के लिए फलों से बेहतर कुछ भी नहीं है।विदेशी फलो से पटा बाजाररमजान में देसी फलों के साथ विदेशी फल भी रोजेदारों के दस्तरख्वान की शोभा बढ़ा रहे हैं। बोकारो में रोजदारों को इफ्तारी के लिए विदेशी फल काफी पसंद भी आ रहे हैं। यही वजह है कि बाजारों में विदेशी फलों की मांग बढ़ गई है। भले ही ये फल थोड़े महंगे हैं और कुछ लोगों की पहुंच से दूर हैं, लेकिन यहां अधिकांश लोग अब इन विदेशी फलों से रोजा इफ्तार कर रहे हैं। बोकारो बाजारों में अमेरिका के सेब, आस्ट्रेलिया का किवी, थाईलैंड की मीठी इमली उपलब्ध हैं। रोजेदारों को अमेरिकीबेहद सुर्ख व मीठा सेब पसंद आ रहा है। वहीं आस्ट्रेलियाई किवी की भी धूम मची हुई है। इन सब के साथ खरबूजे जैसा दिखने वाले अफगानिस्तान के सरदा फल की भी खूब मांग है। फल दुकानदार अरविंद ने बताया कि इस बार रमजान में रोजेदार विदेशी खजूर के साथ दूसरे विदेशी फल भी खूब खरीद रहे हैं। दाम ज्यादा होने के बाद भी खरीदारी में कोई कमी नहीं आई है। उन्होंने बताया कि बाजार में अमेरिकी सेब 200 रुपये प्रति किलो, आस्ट्रेलियाई किवी 400 से 500 रुपये प्रति किलो व थाईलैंड की मीठी इमली 80 रुपये में 250 ग्राम मिल रही है। फल दाम किलोअनार - 120 केला - 25पपीता - 40खजूर - 100-300 आम - 50सेब - 130-200तरबूज - 20मौसमी - 50अलूचा - 80लीची - 100

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Demand for increased fruits in Ramadan;