DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ईश्वरचंद्र विद्यासागर की पुण्यतिथि मनी

ईश्वरचंद्र विद्यासागर की पुण्यतिथि मनी

झारखंड बांग्ला भाषा उन्नयन समिति की ओर से रविवार को गांधी सेवा सदन में ईश्वरचंद्र विद्यासागर की पुण्यतिथि मनाई गई। उपस्थित लोगों ने उनकी जीवनी पर प्रकाश डाला। बेंगू ठाकुर ने कहा कि उनका जन्म मेदनीपुर गांव में 18 सितंबर 1820 हुआ था।

विद्यासागर सरकारी शिक्षा विभाग में नौकरी करते थे। नौकरी छोड़ने के बाद समाज में विधवा महिलाओं का विवाह कराने की पहल की। करमाटांड़ में रहने के लिए आ गए थे। आदिवासी समाज अपनी रीति रिवाज से विद्यासागर की पुण्यतिथि पर दो दिन का मेला लगाया जाता है।

उपस्थित लोगों ने झारखंड सरकार से करमाटांड़-दुमका सड़क का नाम ईश्वरचंद्र विद्यासागर के नाम पर रखने की मांग की। मौके पर स्वामी प्रयागात्मानंद, कल्याण भटाचार्य, कल्याण घोषाल, युवा जिलाध्यक्ष जामिनी पाल, बुचुन यादव, कंचन चक्रवर्ती, राजु प्रमाणिक, शिद्धेश्वर रक्षीत, मणिलाल महतो, सपन चटर्जी, अजीत सेनगुप्ता, अशोक डे, दीपक चटर्जी, गोपाल गांगुली, श्यामल दत्ता, मिंटू दास, झामुमो जिलाध्यक्ष रमेश टुडू आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Death of Ishwarachandra Vidyasagar