DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  धनबाद  ›  नहाय खाय के साथ आज से चैती छठ की शुरुआत

धनबादनहाय खाय के साथ आज से चैती छठ की शुरुआत

हिन्दुस्तान टीम,धनबादPublished By: Newswrap
Fri, 16 Apr 2021 03:43 AM
नहाय खाय के साथ आज से चैती छठ की शुरुआत हो रही है। नेम निष्ठा का यह पर्व चैत मास शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से शुरू होता है। शुक्रवार 16 अप्रैल को...
1 / 3नहाय खाय के साथ आज से चैती छठ की शुरुआत हो रही है। नेम निष्ठा का यह पर्व चैत मास शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से शुरू होता है। शुक्रवार 16 अप्रैल को...
नहाय खाय के साथ आज से चैती छठ की शुरुआत हो रही है। नेम निष्ठा का यह पर्व चैत मास शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से शुरू होता है। शुक्रवार 16 अप्रैल को...
2 / 3नहाय खाय के साथ आज से चैती छठ की शुरुआत हो रही है। नेम निष्ठा का यह पर्व चैत मास शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से शुरू होता है। शुक्रवार 16 अप्रैल को...
नहाय खाय के साथ आज से चैती छठ की शुरुआत हो रही है। नेम निष्ठा का यह पर्व चैत मास शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से शुरू होता है। शुक्रवार 16 अप्रैल को...
3 / 3नहाय खाय के साथ आज से चैती छठ की शुरुआत हो रही है। नेम निष्ठा का यह पर्व चैत मास शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से शुरू होता है। शुक्रवार 16 अप्रैल को...

धनबाद कार्यालय संवाददाता

नहाय खाय के साथ आज से चैती छठ की शुरुआत हो रही है। नेम निष्ठा का यह पर्व चैत मास शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से शुरू होता है। शुक्रवार 16 अप्रैल को नहाय खाय के साथ महापर्व शुरू हो जाएगा। चैती छठ को लेकर बाजार भी तैयार है। नहाय खाय से एक दिन पूर्व बाजार में लोगों ने खरीदारी की। पुराना बाजार में सूप, दौरा और कद्दू सहित चैती छठ से जुड़े अन्य पूजन सामग्री खरीदने के लिए लोगों की भीड़ जुटी। पुराना बाजार में गुरुवार की शाम सूप 50 से 70 तक में बिका। वहीं दउड़ा 150 रुपए से लेकर 450 रुपये तक में बेचे गए।

40 से 50 में बिका कद्दू

चैती छठ के प्रथम दिन नहाय खाय में कद्दू का विशेष महत्व होता है। दिन में नहाय खाय के उपरांत कद्दू भात खाने की परंपरा है। नहाए खाए से पूर्व गुरुवार को बरटांड़, हीरापुर हटिया, स्टील गेट, पुराना बाजार, बरमसिया सहित अन्य सब्जी बाजारों में कद्दू के भाव आसमान छू रहे थे। बुधवार को बाजार में जहां कद्दू 25 किलो बिक रहा था। वही कद्दू गुरुवार को 40 से 50 तक में बिका।

रविवार को पहला अर्घ्य

18 अप्रैल रविवार को षष्ठी तिथि पर सूर्यदेव को पहला अर्घ्य दिया जाएगा। हालांकि कोरोना के कारण अधिकांश लोग अपने-अपने घरों में ही अर्घ्य देने की तैयारी में जुटे हैं। लेकिन फिर भी छठ घाट पर जाने को लेकर किसी भी प्रकार की सरकारी गाइडलाइन जारी नहीं की गई है। इसलिए लोग छठ घाट पर भी पहुंचेंगे। लेकिन शहर के सभी छठ घाट पर सफाई की स्थिति बदतर है।

कब-क्या है अनुष्ठान

नहाय खाय : शुक्रवार, 16 अप्रैल

खरना : शनिवार, 17 अप्रैल

संध्या अर्घ्य : रविवार, 18 अप्रैल

सुबह का अर्घ्य : सोमवार, 19 अप्रैल

संबंधित खबरें