अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गैंग्स आफ वासेपुरः रंगदारी मांगने पर शेर खान और सात गुर्गे भेजे गए जेल

पंडुकी में अशोका लीलैंड के वर्कशॉप मालिक से रंगदारी मांगने के मामले में गिरफ्तार शेरखान सहित आठ आरोपियों को पुलिस ने सोमवार को जेल भेज दिया। अशोका लीलैंड के निर्माणधीन वर्कशॉप में रविवार दोपहर शेरखान अपने दर्जनों गुर्गों के साथ पहुंचकर काम बंद करा दिया था। वर्कशॉप के कर्मी दिलीप मंडल के आवेदन में उक्त लोगों पर रंगदारी मांगने, नाजायज मजमा लगाकर धमकाना, गला दबाकर हत्या का प्रयास करने एवं पॉकेट से जबरन रुपए निकालने का आरोप लगाया गया है।

पुलिस ने मौके से सात लोगों को हॉकी स्टीक के साथ गिरफ्तार किया था। एफआइआर दर्ज करने के बाद पुलिस ने सभी को जेल भेज दिया। इधर रविवार की रात को कांड का एक और आरोपी नजीम ने थाने में सरेंडर कर दिया। रंगदारी और जमीन विवाद की जाच में जुटी पुलिसमामाला रंगदारी का है या फिर वास्तव में यह जमीन विवाद का मामला है। पुलिस दोनों बिंदुओ पर जांच कर रही है। रंदारी के आरोप में पकड़े जाने के बाद शेर खान की पत्नी ने इसे जमीन विवाद बताया था। शेर खान की पत्नी शरीमन खातून की शिकायत पर पुलिस इस बिंदु पर भी जांच कर रही है। मामले की जानकारी देते हुए वर्कशॉप के पार्टनर संजीव यादव ने बताया कि उक्त जमीन को 2013 में एजेंसी के प्रोपराइटर मोहन हिम्मत सिंह ने अशोका लीलैंड कंपनी से खरीदा था। उन्होंने बताया कि अगर शेर खान की मानें तो जमीन मार्च में स्वर्गीय कुमेद पांडेय की पुत्रियों से तीन महिलाओं के नाम पर 34 डिसमिल जमीन रजिस्ट्री करायी गई। जबकी उसी जमीन की गोविन्दपुर अंचल में ऑनलाइन रसीद कट रही है । जमीन खरीदने के लिए ऑनलाइन रसीद के साथ सर्वे कार्यालय धनबाद का इन्फॉर्मेशन जरूरी है। तो फिर शेर खान एवं उनकी पत्नी शरीमन खातून उक्त जीमन को स्वर्गीय पांडेय की पुत्रियों द्से कैसे रजिस्ट्री करवा ली। जबकि जमीन पूर्व में बिक चुकी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:All accused in jail including Sher Khan