DA Image
6 अगस्त, 2020|6:51|IST

अगली स्टोरी

इस साल कोल इंडिया में निकलेगी 66 सौ वैकेंसी

default image

कोविड-19 से अर्थव्यवस्था में आयी सुस्ती को खत्म करने के लिए कोल इंडिया वित्तीय वर्ष 2020-21 में अधिकारियों कर्मचारियों के 66 सौ पदों पर बहाली के लिए वैकेंसी जारी करेगी। कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। मंत्री ने अपने ट्वीटर हैंडल पर लिखा है कि कोल इंडिया की ओर से पोस्ट कोविड स्थिति में अर्थव्यवस्था के रिवायवल के लिए बड़े पैमाने पर बहाली का निर्णय लिया गया है। 2023-24 से सालाना एक बिलियल टन यानी एक हजार मिलियन टन कोयला उत्पादन में यह मानव संसाधन सहायक होगा।

मामले पर कोल इंडिया के सूत्रों ने बताया कि एक बिलियन टन कोयला उत्पादन के लिए अधिकारियों के साथ-साथ स्टेच्यूटरी पोस्ट मसलन माइनिंग सरदार, ओवरमैन, सर्वेयर आदि की बड़े पैमाने पर जरूरत होगी। इसलिए वैकेंसी जारी की जाएगी। उक्त वैकेंसी बीसीसीएल, सीसीएल, ईसीएल सहित कोल इंडिया की सभी अनुषंगी कंपनियों में होगी।

मालूम हो पूर्व की योजना थी कि पांच साल में कोल इंडिया प्रतिवर्ष एक हजार अधिकारियों की भर्ती करेगी। इसी के तहत पिछले साल 1326 अधिकारियों की वैकेंसी जारी की गई थी, जिसकी ऑनलाइन लिखित परीक्षा हो चुकी है। कोविड-19 के कारण साक्षात्कार अब तक नहीं हो सका है। कोरोना संकट के बाद उपजी स्थिति से राहत के लिए पूर्व की वैकेंसी की योजना को अब एक साथ निकालने की तैयारी है। आधिकारिक सूत्रों ने संकेत दिया कि 1326 वैकेंसी को भी जल्दी साक्षात्कार के बाद परिणाम जारी किया जाएगा।

सितंबर बाद कोल सेक्टर में बदलेगी स्थिति

कोल इंडिया का पोस्ट कोविड रोडमैप के अनुसार सितंबर 2020 के बाद स्थिति सुधरेगी। कोयले की मांग बढ़ेगी। इसीलिए कोल इंडिया ने चालू वित्तीय वर्ष के लक्ष्य 710 मिलियन टन में कटौती नहीं करने का निर्णय लिया है। भारत में कोयले की खपत को अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर का पैमान माना जाता है। वर्तमान में स्थिति चुनौतीपूर्ण है। प्रतिदिन औसतन लगभग दो मिलियन टन कोयला उत्पादन की जगह देश में 1.3 मिलियन टन (1300 लाख टन) कोयला उत्पादन हो रहा है। कोल कंपनियों के पास 75 मिलियन टन का स्टॉक हो गया है। पावर प्लांटों के पास भी लगभग 50 मिलियन टन का स्टॉक है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:66 hundred vacancies will come out in Coal India this year