DA Image
28 अक्तूबर, 2020|5:59|IST

अगली स्टोरी

मटकुरिया फ्लाईओवर से गुलजारबाग के 200 परिवार को बेघर होने का डर

मटकुरिया फ्लाईओवर से गुलजारबाग के 200 परिवार को बेघर होने का डर

मटकुरिया-आरा मोड़ फ्लाईओवर निर्माण के रास्ते वासेपुर के गुलजारबाग मुहल्ले में रहने वाले 200 परिवारों का घर आ रहा है। सरकारी जमीन पर बसे इन परिवारों का पुनर्वास कराना सरकार के लिए एक चुनौती होगी। पिछले 30-35 वर्षों से इस मुहल्ले में लोग रह रहकर अपना जीवन बसर कर रहे हैं।

दो दिन पहले मटकुरिया-आरा मोड़ फ्लाईओवर को लेकर डीसी ने समीक्षा बैठक बुलाई थी। बैठक में गुलजारबाग के परिवारों का मुद्दा पूर्व पार्षद निसार आलम ने उठाया। डीसी ने वहां रह रहे परिवारों का फिर से सर्वे कर रिपोर्ट सौंपने का निर्देश रोड कंस्ट्रक्शन डिपार्टमेंट (आरसीडी) को दिया है। एक-दो दिन में फिर सर्वे का काम शुरू होने वाला है।

200 परिवारों ने सरकार से मांगा प्रधानमंत्री आवास

गुलजारबाग का यह मुहल्ला गुपचुप मुहल्ले के नाम से भी जाना जाता है। यहां रहने वाले 200 परिवारों ने राज्य सरकार से प्रधानमंत्री आवास की मांग की है। लोगों का कहना है कि बिना पुनर्वास के हमे उजाड़ा गया तो विरोध करेंगे।

3. 5 किलोमीटर लंबा होगा फ्लाईओवर

पिछली सरकार ने 3.5 किलोमीटर लंबे आरा मोड़-मटकुरिया फ्लाईओवर की मंजूरी दी थी। फ्लाईओवर बनाने में 125 करोड़ का खर्च आएगा। डीएमएफटी फंड से फ्लाईओवर का निर्माण किया जाएगा। जमीन का अधिग्रहण भी 1985 में सरकार कर चुकी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:200 families of Gulzarbagh fear of being homeless from Matkuria flyover