DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  देवघर  ›  सारठ : मानसून की दस्तक के बावजूद मनरेगा की आधी से अधिक योजनाएं अपूर्ण
देवघर

सारठ : मानसून की दस्तक के बावजूद मनरेगा की आधी से अधिक योजनाएं अपूर्ण

हिन्दुस्तान टीम,देवघरPublished By: Newswrap
Mon, 14 Jun 2021 04:30 AM
सारठ : मानसून की दस्तक के बावजूद मनरेगा की आधी से अधिक योजनाएं अपूर्ण

सारठ : मानसून की दस्तक के बावजूद मनरेगा की आधी से अधिक योजनाएं अपूर्ण

सारठ प्रतिनिधि

एक तरफ कोरोनो महामारी के लिए चल रहे लॉकडॉउन में मज़दूरों की आर्थिक स्थिति बेहद खराब हो चुकी है। लोग बेरोजगारी से परेशान हो गए हैं। वहीं दूसरी ओर सरकार की व्यवस्था के कारण मज़दूरों की महत्वाकांक्षी योजना मनरेगा का हाल इस वर्ष बेहद खराब रहा। प्रखंड के सभी पंचायतों में चल रही मनरेगा योजनाओं का कार्य अधर में लटकी रह जायेगी। पिछले कुछ दिनों से हो रही बरसात से मानसून आगमन के संदेश मिल रहे हैं। ऐसे में मिट्टी खुदाई का काम होना लगभग नामुमकिन है। मनरेगा योजनाओं का अपूर्ण रहने का मुख्य कारण समय पर मजदूरी व मेटेरियल का भुगतान नहीं हो पाना है। प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी डेविड गुड़िया ने बताया की वित्तीय वर्ष 2021-2022 में कुल 450 सिंचाई कूप की स्वीकृति मिली थी, जिसमें लगभग 150 सिंचाई कूप ही पूर्ण हो पाया है। इसी वित्तीय वर्ष में कुल 215 डोभा की स्वीकृति मिली है, जिसमें लगभग 50 डोभा ही पूर्ण हो सका। बताया कि जो योजनाएं अपूर्ण रह जायेंगी उसे बरसात के बाद पुनः शुरू कर दिया जाएगा। ऐसे में बरसात के कारण अधिकतर सिंचाई कूप धंसने की आशंका बनी रहेगी। साथ ही डोभा में भी मिट्टी भर जाने से पुनः खुदाई करना पड़ेगा, जिससे लाभुक व सरकार दोनों को नुकसान हो सकता है।

संबंधित खबरें