ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड देवघरपालोजोरी में रासलीला की मची है धूम

पालोजोरी में रासलीला की मची है धूम

पालोजोरी प्रतिनिधि पिछले लगभग 6 दशक से ज्यादा समय से आयोजित हो रहे पालोजोरी के पारंपरिक व विख्यात रास मेला इस वर्ष पूरे जोश-खरोश के साथ शुरू हो गया...

पालोजोरी प्रतिनिधि
पिछले लगभग 6 दशक से ज्यादा समय से आयोजित हो रहे पालोजोरी के पारंपरिक व विख्यात रास मेला इस वर्ष पूरे जोश-खरोश के साथ शुरू हो गया...
1/ 3पालोजोरी प्रतिनिधि पिछले लगभग 6 दशक से ज्यादा समय से आयोजित हो रहे पालोजोरी के पारंपरिक व विख्यात रास मेला इस वर्ष पूरे जोश-खरोश के साथ शुरू हो गया...
पालोजोरी प्रतिनिधि
पिछले लगभग 6 दशक से ज्यादा समय से आयोजित हो रहे पालोजोरी के पारंपरिक व विख्यात रास मेला इस वर्ष पूरे जोश-खरोश के साथ शुरू हो गया...
2/ 3पालोजोरी प्रतिनिधि पिछले लगभग 6 दशक से ज्यादा समय से आयोजित हो रहे पालोजोरी के पारंपरिक व विख्यात रास मेला इस वर्ष पूरे जोश-खरोश के साथ शुरू हो गया...
पालोजोरी प्रतिनिधि
पिछले लगभग 6 दशक से ज्यादा समय से आयोजित हो रहे पालोजोरी के पारंपरिक व विख्यात रास मेला इस वर्ष पूरे जोश-खरोश के साथ शुरू हो गया...
3/ 3पालोजोरी प्रतिनिधि पिछले लगभग 6 दशक से ज्यादा समय से आयोजित हो रहे पालोजोरी के पारंपरिक व विख्यात रास मेला इस वर्ष पूरे जोश-खरोश के साथ शुरू हो गया...
हिन्दुस्तान टीम,देवघरThu, 07 Dec 2023 04:30 PM
ऐप पर पढ़ें

- दूर-दराज के लोग रास मेला का ले रहे हैं आनंद
- इलेक्ट्रॉनिक झूला, चाट, पेस्टी की दुकान बच्चों को कर रही आकर्षित

- शृंगार प्रसाधन व घरेलू उपयोग की सामग्री की दुकानों में महिलाओं की जुटी है भीड़

पालोजोरी प्रतिनिधि

पिछले लगभग 6 दशक से ज्यादा समय से आयोजित हो रहे पालोजोरी के पारंपरिक व विख्यात रास मेला इस वर्ष पूरे जोश-खरोश के साथ शुरू हो गया है। पालोजोरी के हटिया परिसर में आयोजित होने वाला रास मेला के अवसर पर इस बार कई तरह के नए वह आकर्षक झूले तो लगे ही हैं, मिकी माउस, मौत का कुआं भी लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बन गया है। इलेक्ट्रॉनिक झूला मौत का कुआं का लुत्फ उठाने के लिए दूर-दराज के लोग आ रहे हैं। चाट, पेस्टी सहित कई तरह के मिष्ठान दुकानें भी बच्चों को अपनी और आकर्षित कर रहा है। खिलौने की दुकान में भी बच्चों की भीड़ देखी जा रही है। इस सबसे अलग शृंगार प्रसाधन की दुकानों व घरेलू उपयोग के सामान की दुकानों में महिलाओं की भीड़ देखी जा रही है। जानकारी हो कि पालोजोरी के रासमेला का विशेष महत्व है। यहां का रासमेला अपने आप में कई परंपराओं को पाले हुए है। यहां लगने वाले रासलीला का इंतजार पालोजोरी के आसपास के दर्जनों गांव के लोगों को रहता है।

सोमवार को होगा संथाली जतरा का आयोजन :-

रासलीला के अवसर पर 12 दिसंबर सोमवार को संथाली जतरा का आयोजन होगा। पालोजोरी व आसपास के क्षेत्र में आदिवासी समुदाय की बहुलता रहने के कारण संथाली जतरा आदिवासी समुदाय के लिए मुख्य आकर्षण का केंद्र है। इसका लुत्फ उठाने के लिए हजारों की संख्या में लोगों का जुटान होगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें