DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘कुर्बानी देने वालों की नीयत साफ रहे, दिखावा नहीं

‘कुर्बानी देने वालों की नीयत साफ रहे, दिखावा नहीं

सारठ अंचल के मुस्लिम बहुल आबादी वाले गांव के ईदगाहों में ईद-उल-अजहा की नमाज हर्षोल्लास भरे माहौल में पढ़ी गई। ईद उल अजहा के इस खास मौके पर सभी ईदगाह नमाजियों से भरा दिखा। नमाजी ईदगाहों की तरफ दुआ अल्लाहो अकबर, अल्लाहो अकबर बुलंद आवाजों में पढ़ते हुए घरों से ईदगाह की ओर कूच किए।

ईदगाहों में बकरीद की नमाज के पूर्व वहां के उलेमाओं ने कुर्बानी के रहस्य व महत्व के बारे में विस्तृत रुप से जानकारी दी। इस अवसर पर हाजी व हाफिज जफर खान चिश्ती ने अपने तकरीर में कुरान व हदिश का हवाला देते हुए कहा कि इंसानों को कुर्बानी अल्लाह के राह में नेक नीयती से करनी चाहिए ना कि दिखावे के लिए। अपने पास पड़ोस के गरीबों को भी इसमें खास ध्यान रखना चाहिए।

गरीब, विधवा, विकलांग को मदद करना चाहिए। मालदार को परिभाषित करते हुए कहा कि कोई इंसान जो साढ़े बावन तोला चांदी या साढ़े सात सौ ग्राम सोना का मालिक है उनपर कुर्बानी फर्ज है।

चितरा में बकरीद पर्व मना मनाया गया: चितरा थाना क्षेत्र अंतर्गत ठाढ़ी, भंगाठ, कालीजोत, बरमसिया, काशीटांड़ आदि स्थानों पर बकरीद पर्व से मनाया गया। लोगों ने बुधवार को नये-नये कपड़े पहन कर मस्जिदों में सुबह 8 बजे बकरीद की नमाज अदा की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:principles of those who give the sacrifice are clean, not pretend'