Book fair starts in R Mitra Plus Two school - आर मित्रा प्लस टू विद्यालय में पुस्तक मेला शुरू DA Image
19 फरवरी, 2020|12:58|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर मित्रा प्लस टू विद्यालय में पुस्तक मेला शुरू

आर मित्रा प्लस टू विद्यालय में पुस्तक मेला शुरू

1 / 2आर मित्रा प्लस टू विद्यालय देवघर परिसर में रविवार को 10 दिवसीय 19वें देवघर पुस्तक मेला का उद्घाटन किया गया। विधायक नारायण दास, संयुक्त बिहार के पूर्व मंत्री कृष्णानंद झा, डीसी नैन्सी सहाय, एसडीएम...

आर मित्रा प्लस टू विद्यालय में पुस्तक मेला शुरू

2 / 2आर मित्रा प्लस टू विद्यालय देवघर परिसर में रविवार को 10 दिवसीय 19वें देवघर पुस्तक मेला का उद्घाटन किया गया। विधायक नारायण दास, संयुक्त बिहार के पूर्व मंत्री कृष्णानंद झा, डीसी नैन्सी सहाय, एसडीएम...

PreviousNext

आर मित्रा प्लस टू विद्यालय देवघर परिसर में रविवार को 10 दिवसीय 19वें देवघर पुस्तक मेला का उद्घाटन किया गया। विधायक नारायण दास, संयुक्त बिहार के पूर्व मंत्री कृष्णानंद झा, डीसी नैन्सी सहाय, एसडीएम विशाल सागर, प्रो एच सुबादनी देवी और प्रो के युगिन्द्रो सिंह ने संयुक्त रूप से दीप जलाकर उद्घाटन किया।

मौके पर अतिथियों को मेला संयोजक डॉ सुभाष चन्द्र राय, मेला प्रभारी आलोक मल्लिक, राजेश कुमार व बीरेन्द्र सिंह ने अंगवस्त्र व स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व मंत्री कृष्णानंद झा ने की। इस दौरान सम्मानित अतिथि मणिपुर केन्द्रीय विश्वविद्यालय के हिन्दी विभागाध्यक्ष प्रो एच सुबादनी देवी को भाषा सेतु सम्मान से सम्मानित किया गया। मंच पर उपस्थित अतिथियों ने स्थानीय शिक्षाविद् मोतीलाल द्वारी की रचित तीन पुस्तकों का लोकार्पण किया। मौके पर विधायक ने कहा कि किताब का स्थान कोई आधुनिक वस्तु नहीं ले सकती है। शहर में प्रतिवर्ष किया जाने वाला यह पुस्तक मेला शहरवासियों व पुस्तक प्रेमियों के लिए वरदान साबित होता है।

मौके पर पूर्व मंत्री ने कहा कि पुस्तक मेला शहर की आवश्यकता बन गई है। पुस्तक इंसान के ज्ञान से सीधा संबंध रखता है। पुस्तक का अध्ययन करने से कई प्रकार के ज्ञान मिलते हैं। वहीं डीसी ने अपने संबोधन में कहा कि ज्ञानवर्द्धन के लिए पुस्तक का अध्ययन करना बहुत ही जरूरी है। विद्यार्थियों, बच्चों व युवाओं के लिए सबसे अधिक जरूरी पुस्तक है। पुस्तक का अध्ययन कर पुस्तक प्रेमी समाज की कुरीतियों से बच सकते हैं। पुस्तक मेले में पुस्तक प्रेमियों को विभिन्न प्रकार के ज्ञानवर्द्धक पुस्तकों का भंडार है। पुस्तक प्रेमी मेले में ज्ञान यज्ञ का लाभ उठा सकते हैं।

पुस्तक मेला में बनाए गए हैं दो भव्य पंडाल : 19वें देवघर पुस्तक मेले में दो भव्य पंडाल बनाए गए। एक पंडाल का नाम गीता रहस्य प्रशाल व दूसरे पंडाल का नाम हिन्द स्वराज प्रशाल रखा गया। दोनों पंडाल में नाम के अनुसार स्पेशल काउंटर बनाए गए, जबकि मुख्य गेट का नामाकरण महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह स्मृति द्वार रखा गया। पुस्तक प्रदर्शनी का गेट संताल कल्चर के थीम पर बनाया गया है, जहां पुस्तक प्रेमी के लिए सेल्फी प्वाइंट बनाया गया।

27 प्रकाशकों ने पुस्तक मेले में लगाए अपने-अपने स्टॉल: देवघर पुस्तक मेले में देश के 27 बड़े-बड़े प्रकाशकों ने अपने- अपने स्टॉल लगाए हैं। मेले में मैक्ग्रॉ हिल, वाइली इंडिया, पियरसन, जेबीसी प्रेस, नेशनल बुक इंटरप्राइजेज, उषा बुक्स, रॉय बुक्स, भारती नेशनल बुक ट्रस्ट, भारतीय ज्ञानपीठ, नेशनल एटलस, राजकमल, राही प्रकाशन, सस्ता साहित्य मंडल, नई किताब प्रकाशन, मेधा बुक्स, शब्द प्रकाशन, किरण पब्लिकेशन, विकल्प प्रकाशन, सत्यम पब्लिशिंग हाउस, न्यू सरस्वती बुक, नालंदा प्रकाशन, उपहार प्रकाशन, आर्य समाज, जमात अहमदिया, इस्कॉन, योगदा सत्संग, गायत्री प्रकाशन के अलावा इंस्टीट्यूट, क्राफ्ट, हर्बल, आयुर्वेद, हैंडीक्राफ्ट के भी स्टॉल लगाए गए हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Book fair starts in R Mitra Plus Two school