DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘जिन्हें गो हत्या प्यारी है, वह भारत खालीं करें

जिन्हें भारत में रहकर गो हत्या प्यारी है, वे भारत को अविलंब खाली कर दें, उन्हें भारत मे रहने का कोई हक नहीं है। उक्त बातें श्रीश्री 108 अनंत श्री जगत गुरु शंकराचार्य पुरी पीठाधीश्वर निश्चलानंद सरस्वती जी महाराज ने मंगलवार रात सारठ के सहरजोरी में आयोजित श्रीश्री 108 सतावृत्ति हवनात्मक शतचंडी महायज्ञ कार्यक्रम में प्रवचन के दौरान कही। उन्होंने कहा गो माता की रक्षा हिन्दुओं का परम कर्तव्य है। यूपी सरकार के कार्यशैली पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा भारतवर्ष में एक बूचड़खाना हमें कबूल नहीं है। बूचड़खाना का वैध व अवैध श्रेणी का दर्जा न देकर सब को हमेशा हमेशा के लिए बंद कर देना चाहिए। शंकराचार्य ने कहा कि वह 1967 में ही गोवंश की रक्षा का आंदोलन करा चुके हैं। वहीं रामसेतू पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भारत में कुछ ऐसे राजनीतिक दल व राजनीतिक व्यक्ति हैं, जो रामसेतू विखंडन कराने पर आमदा है। मजे की बात तो यह है कि रामसेतू की रक्षा की आवाज उठाने वाले को कुछ राजनीतिक दल राष्ट्रद्रोह कह रहे हैं। जिसने रामसेतू की रक्षा के खातिर अपना खून पसीना बहाया आज उसे ही भारत, राष्ट्रद्रोह की संज्ञा दी जाती है। भारत के हिन्दुओं को जागने की जरूरत है, नहीं जागेंगे तो लुट जाएंगे। भारत की स्वतंत्रता के बाद अबतक 13 बार इसका विभाजन हो चुका है जो कायरता को दर्शाता है। जन भावनाओं का कद्र नहीं करने वाले राजनीतिक दलों या नेताओं को चुनाव लड़ने का हक नहीं है। विषय लोलुप रखने वाले समाज का शोषक कभी नहीं हो कसता है। इसके अलावे ग्रंथों से दूरियां नहीं बनाने, भौतिकवाद का बढ़वा नहीं देने की बात कही। मौजूदा स्थिति पर प्रतिक्रिया देते हुए शंकराचार्य ने भारत स्वतंत्र होने के बावजूद यहां परतंत्र प्रणाली व्याप्त हैं। स्वतंत्र होकर गाय की हत्या करें कैसा इंसाफ है। वहीं भारत की सुरक्षा, शिक्षा, प्रणाली को पूरी तरह से चौपट बताया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'Those who are murdered, they should empty the country'