The widow took the ration card and housing for the district administration - विधवा ने राशन कार्ड और आवास के लिए जिला प्रशासन से लगाई गुहार DA Image
15 नबम्बर, 2019|2:39|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विधवा ने राशन कार्ड और आवास के लिए जिला प्रशासन से लगाई गुहार

सिमरिया प्रखंड के कुट्टी निवासी सरोज देवी के पति का साया क्या उठा कि उसपर मुसिबत का पहाड़ आ गिरा। पहले मिट्टी का घर गिरा और बाद में अंत्योदय का राशन कार्ड भी बंद हो गया। घर गिरने के बाद कभी जर्जर सरकारी भवन तो कभी किसी के निजी मकान के एक कोने में अपने कुनबे के साथ जिंदगी गुजार रही है। दिव्यांग बच्ची और छोटे बच्चों के लालन पालन के साथ पढ़ाई के लिए पहले कुट्टी स्कूल में खाना बनाती थी। परंतु स्कूल को दूसरे स्कूल में समाहित कर देने के बाद बच्चों के साथ अपना पेट पालना भी उसे मुश्किल होने लगा है। दिव्यांग पुत्री ललीता के कारण दिहाड़ी मजदूरी नही कर पाती है। जबकि पेट की ज्वाला शांत करने के लिए अब झाडू पोछा लगा कर बच्चों की परवरीस कर रही है। उसने बताया कि विधवा पेंशन की राशि बच्चों की पढाई में खर्च हो जाती है। जबकि बाजार से राशन और किरोसिन खरीदने के लिए कई घरो में झाडू पोछा लगाना पड़ता है। पंचायत और प्रखंड कार्यालय का पिछले तीन चार वर्षो से चक्कर लगा कर थक चुकी है। उन्होंनेजिला प्रशासन से प्रधान मंत्री आवास और रासन कार्ड देने की गुहार लगाई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The widow took the ration card and housing for the district administration