Ten years rigorous imprisonment to a firearms and rifle supplier - अग्नेयास्त्र और राईफल सप्लायर को दस वर्ष का सश्रम कारावास DA Image
12 दिसंबर, 2019|4:01|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अग्नेयास्त्र और राईफल सप्लायर को दस वर्ष का सश्रम कारावास

default image

प्रथम जिला एवं सत्र न्यायाधीश आशुतोष दूबे की अदालत ने अग्नेयास्त्र और राईफल के गोली सप्लयार सुरेश यादव को दस वर्ष का सश्रम कारावास और 40 हजार रूपये जुर्माना की सजा सुनाया । जुर्माना नहीं देने पर चार माह का साधारण करावास की सजा अतिरिक्त भुगतना पड़ेगा। सुरेश गया जिला के बाराचट्टी थाना के बाराचट्टी निवासी स्वर्गीय तिलक यादव का पुत्र है। हंटरगंज थाना प्रभारी चंद्रमा सिंह को 27 मई 2010 को गुप्त सूचना मिली थी कि सुगी पिंडरी जंगल में अग्नेयास्त्र और गोली राईफल उग्रवादियों को सप्लाई करने हेतु एक गिरोह आया है। इसकी सूचना वरीय पदाधिकारी को देकर सन्हा दर्ज कर पुलिस बल के साथ घटनास्थल पिंडरी जंगल गया। इसके बाद देखा कि एक व्यक्ति एक बोरा लेकर जल्दी जल्दी भाग रहा है। उस पर संदेह हुता तो रूकने के लिए बोला। इसके बाद वह और तेजी से भागने लगा। इसके बाद जवानो ने उसे पकड़ लिया और तालाशी ली गयी तो उसके पास से 315 बोर का एक देशी रायफल, 12 बोर का एक नली देशी बंदूक, दो देशी पिस्टल और 14 जिंदा कारतुस पाया गया। इसके अलावा एक अलग से झोला में तीन शक्तिशाली बम बरामद किया गया। हथियारों का कागज की मांग की गयी तो कोई कागज नहीं दिखाया गया। इसके बाद उसके विरूद्ध हंटरगंज थाना कांड संख्या 66/10 धारा 25 वनबी, ए/26 एवं 3/5 विस्फोटक पदार्थ के अंतर्गत कांड अंकित किया गया। पुलिस द्वारा चार्जशीट सुरेश यादव के विरूद्ध न्यायालय में समर्पित किया गया। ट्रायल के बाद आरोपी के विरूद्ध आरोप सत्य पाया गया। फिर 24 वनबी में 3 वर्ष व 10 हजार रूपये जुर्माना, 26ए में 7 वर्ष व 10 हजार रूपये तथा विस्फोटक पदार्थ 3/4 में 10 वर्ष व 25 हजार रूपए जुर्माना की सजा सुनाया गया। सभी सजा साथ साथ चलेगी। -*

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ten years rigorous imprisonment to a firearms and rifle supplier