DA Image
25 जनवरी, 2020|1:29|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रशिक्षित विक्रेता ही बेच सकेंगे खाद-बीज

default image

कृषि विज्ञान केन्द्र में खाद-बीज विक्रेताओं का 15 दिवसीय सर्टिफिकेट कोर्स गुरूवार को आरंभ किया गया। प्रशिक्षण में जिले के विभिन्न प्रखण्डों के 50 खाद-बीज विक्रेता प्रशिक्षण ले रहे हैं। प्रशिक्षण का शुभआरंभ करते हुए वरीय वैज्ञानिक एवं प्रधान डा रंजय कुमार सिंह ने बताया कि खाद एवं बीज की डीलरशिप लेने के लिए अब डिग्री रास्ते का रोड़ा नहीं बन सकेगी। यानी कि अब 10वीं पास युवा भी खादण्बीज की दुकान का लाइसेंस प्राप्त कर सकेंगे। दरअसल उर्वरक मंत्रालय ने खेती के लिए उर्वरकों की बिक्री के नियमों में संशोधन कर लाइसेंस की प्रकिया को सरल बना दिया है। अब नए नियमों के अनुसार एग्रीकल्चर स्नातक युवाओं के साथ 10वीं पास युवा भी उर्वरक बिक्री के लिए लाइसेंस प्राप्त कर सकते हैं। उन्होेंने बताया कि ऐसे युवाओं को कृषि विज्ञान केंद्र से 15 दिवसीय प्रशिक्षण प्राप्त कर उर्वरक बिक्री का प्रमाण पत्र प्राप्त किया जा सकता है। उर्वरक मंत्रालय ने नियमों में संशोधन के साथ ही प्रशिक्षण के लिए अलग से पाठ्यक्रम भी तय किया गया है। जिसमें उर्वरकों की बिक्री के संबंध में विशेष जानकारी दी जाएगी। प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद युवाओं को कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा प्रमाण पत्र दिया जाएगा। प्रशिक्षण में प्रशिक्षण प्रभारी अभिजित घोष ने बताया कि यह प्रशिक्षण 16 जनवरी से 30 जनवरी 2020 तक चलेगा। इसमें 32 सैद्धांतिक एवं आठ प्रायोगिक क्लास ली जाएगी। बिरसा कृषि विश्वविद्यालय एवं कृषि विज्ञान केन्द्रों के वरिष्ठ वैज्ञानिकों के द्वारा प्रशिक्षण दिया जायेगा। प्रशिक्षण में वैज्ञानिक धर्मा उरॉव ने बताया कि ज्यादातर किसान खाद बीज विक्रेताओं से ही खेती के संबंधित सलाह लेते हैं। ऐसी परिस्थिति में खाद बीज विक्रेताओं का उर्वरक से संबंधित प्रशिक्षण होना अति आवश्यक है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Only trained vendors will be able to sell fertilizer