DA Image
23 जनवरी, 2020|7:34|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साफ-सफाई के मामले में नगरपालिका प्रशासन गंभीर नहीं

default image

नगरपालिका क्षेत्र में वैसे तो साफ-सफाई में पहले से कुछ सुधार जरूर हुआ है, लेकिन जैसी सफाई होनी चाहिए वैसी नहीं हो रही है। आज भी साफ-सफाई के मामले में चतरा का नगरपालिका प्रशासन पूरी तरह से गंभीर नहीं है। शायद यही कारण है कि मेन रोड को छोड़ लगभग सभी वार्डों में कमोबेश खुले आम चौंक चौराहों पर ही कुड़े कचड़े दिख जायेगें। नालियां का हाल तो और भी खराब है। नालियों के साफ सफाई के अभाव में जगह-जगह पर नालियों के बहता पानी रोड़ को खराब कर रहा है। मुहल्ले के लोग कई बार वार्ड पार्षदों को आरजू मिन्नत करते हैं तो दो चार महिने में एकाध बार नालियों की सफाई करा दी जाती है। कई मुहल्ले में कुड़ेदान जो दो से तीन माह पूर्व रखा गया था, वह कुड़ेदान आज तक उठाया नहीं गया है। कुड़ेदान पूरी तरह से भरा हुआ है। लोग कुड़ेदान के इर्दगिर्द कचड़ों को फेंक कर ढेर लगा देते हैं। देखा यह जा रहा है कि कुड़ेदान के आस-पास जमे कचड़े को दो-तीन दिनों के अंतराल में ट्रैक्टर द्वारा उसे उठा लिया जा रहा है, लेकिन कुड़ेदान को नहीं उठाया जा रहा है। वैसे डोर-टू-डोर कचरों को उठाने के लिये छोटी गाड़ियां सुबह में मुहल्लों में पहुंचती है। ये गाड़ियां घर से कचड़ों को ले जाती है। क्या कहते हैं नगरवासीनगरपालिका के साफ सफाई से वार्ड के लोग संतुष्ट नहीं हैं। वार्ड न0 चार के मो0 जमालुद्दीन ने कहा कि समय-समय पर सफाई नहीं होती है। वार्ड पार्षद को जब कई बार बोला जाता है तो वह महिने में एकाध बार सफाई करवा देते हैं। वार्डों में जगह जगह पर कुड़े कचड़े पड़े रहते हैं। वार्ड चार पांचवा मुहल्ला के सोमनाथ ठाकुर ने कहा कि मुहल्ले में जब कचड़े का अंबार लग जाता है तो दो-तीन महिने में उस कचड़े को उठाया जाता है। वो भी वार्ड पार्षद पर जब दबाव बनाया जाता है तब कचड़ा को उठाया जाता है। उन्होंने कहा कि वे साफ-सफाई से संतुष्ट नहीं हैं। नगरपालिका साफ-सफाई से लेकर सब कुछ का पैसे लेती है, फिर भी लोगों को गंदगी से निजात नहीं दिलाती है।पुष्पा देवी का कहना है कि नगरपालिका में हर तरह का टैक्स लेती है। नगरपालिका केवल टैक्स लेना जानती है, उससे निजात नहीं दिलाती है। मुहल्ले में जब कचड़े-जहां तहां बिखरे रहते हैं उसे देखने वाला कोई नहीं रहता है। प्रधानमंत्री का स्वच्छता अभियान जरूर नालियों की स्थिति तो औरभी बदतर है। शहर के मेन रोड की सफाई तो नियमित होती है लेकिन वार्डों में सफाई नहीं होती है। पांचवा मुहल्ला के मो0 अजीम ने कहा कि मुहल्ले के लोग कचरों को एक निर्धारित स्थान पर फेंक रहे हैं, जिससे वहां कचड़ों का उंचा टीला सा बन गया है। नगरपालिका द्वारा एक दो माह में यहां से कचड़ा को उठाया जाता है। चतरा प्रतिनिधिनगरपालिका उपाध्यक्ष सुदेश कुमार उर्फ फंटुश ने कहा कि साफ-सफाई के मामले में काफी सुधार हुआ है। घरों से कुड़े कचड़े उठाने के लिये डोर टु डोर वाहन चलाये जा रहे हैं। 26 जनवरी के बाद इसमें और तेजी लाई जायेगी। सभी मुहल्लों में कुड़ेदान रखा जायेगा। इस पर अमल नहीं करने वालों पर फाईन भी लगाया जायेगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Chatra- Chatra s municipal administration is still not serious in terms of cleanliness