10 years imprisonment under the Pooso Act - पोक्सो एक्ट के तहत 10 वर्ष की सजा DA Image
9 दिसंबर, 2019|9:24|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पोक्सो एक्ट के तहत 10 वर्ष की सजा

default image

पोक्सो एक्ट के तहत 10 वर्ष की सजाचतरा विधि संवाददाताअपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश आशुतोष दूबे की अदालत ने नाबालिग लड़की के साथ शादी कर शराीरिक शोषण करने वाले रिसु गुप्ता को दस वर्ष का सश्रम कारावास और साठ हजार रूपये जुर्माना की सजा सुनाया। जुर्माना नहीं देने पर छ: माह साधारण कारावास की सजा भुगतना पड़ेगा। रिसु गुप्ता के विरूद्ध नाबालिग बच्ची के पिता ने इटखोरी थाना कांड संख्या 86/2018 धारा 366ए भादवि के तहत मामला दर्ज करवाया था। रिसु नाबालिग बच्ची के साथ जबरन शादी कर उसके साथ पत्नी के रूप में शारीरिक शोषण कर रहा था। जब बच्ची के पिता ने रीसु के विरूद्ध मुकदमा दर्ज किया तो पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया और बच्ची का मेडिकल कराया और धारा 164 सीआरपीसी के तहत बयान दर्ज करवाया। इसके बाद न्यायालय द्वारा ट्राईल के दौरान आठ गवाहों की गवाही लिया। जिसमें नाबालिग बच्ची ने अपने साथ जबरण पत्नी जैसा व्यवहार करने की बात न्यायालय को बतायी। न्यायालय सभी तथ्यो से संतुष्ट होकर धारा 363 और धारा 366 में दस वर्ष का कठोर कारावास और दस हजार रूपये जुर्माना की सजा सुनाया और चार पोक्सो एक्ट के तहत 10 वर्ष कठोर करावास और 50 हजार रूपये जुर्माना की सजा सुनाया। दोनो सजायें साथ साथ चलेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 10 years imprisonment under the Pooso Act