ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड चक्रधरपुरमतदाताओं के घर-घर जाकर सत्यापन का कार्य ईमानदारी से हो : पाण्डेय

मतदाताओं के घर-घर जाकर सत्यापन का कार्य ईमानदारी से हो : पाण्डेय

भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष पवन शंकर पाण्डेय ने कहा कि मतदाताओं के घर-घर जाकर सत्यापन का कार्य ईमानदारी से किया जाए। उन्होंने कहा कि एक दिन पूर्व...

मतदाताओं के घर-घर जाकर सत्यापन का कार्य ईमानदारी से हो : पाण्डेय
default image
हिन्दुस्तान टीम,चक्रधरपुरThu, 13 Jun 2024 02:45 AM
ऐप पर पढ़ें

चक्रधरपुर, संवाददाता
भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष पवन शंकर पाण्डेय ने कहा कि मतदाताओं के घर-घर जाकर सत्यापन का कार्य ईमानदारी से किया जाए। उन्होंने कहा कि एक दिन पूर्व ही एसडीओ सह निर्वाचन निबंधन पदाधिकारी की अध्यक्षता में वोटर लिस्ट के सत्यापन पर राजनीतिक दल तथा बीएलओ व बीएलओ पर्यवेक्षकों के साथ बैठक हुई थी। लेकिन इस लोकसभा चुनाव में चक्रधरपुर के लगभग दो हजार मतदाताओं का नाम डिलिटेड लिस्ट में डाल दिया गया था। जो मतदातन करने से वंचित रह गए। जबकि मृत लोगों के नाम मतदाता सूची में थे और जिंदा लोगों के नाम काट दिया गया। इससे साफ जाहिर होता हैं कि बीएलओ और बीएलओ पर्यवेक्षक या अन्य पदाधिकारी घर बैठेही सत्यापन कर लेते हे हैं। मतदाताओं के घर जाकर नहीं, यदि घर-घर जाकर सत्यापन किए गए होते तो इतने बड़े पैमाने पर मतदाताओं के नाम डिलीटेड नहीं होता। केवल खानापूर्ति किया गया था। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार व केंद्रीय चुनाव आयोग द्वारा मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए करोड़ों खर्च किया जाता हैं। परंतु फिर भी मतदान का प्रतिशत न बढ़, बल्कि घट जाता हैं। इससे साफ जाहिर होता है कि कोई भी पदाधिकारी अथवा कर्मचारी मतदान का प्रतिशत बढ़ने पर कार्य न कर मतदाताओं के नाम डिलीट करने के लिए कार्य करते हैं। यदि ईमानदारी से कार्य होते तो इतने नागरिकों के नाम डिलिट नहीं होता। चक्रधरपुर में दो हजार मतदाताओं का नाम डिलीटेड किसकी गलती से हुई। ऐसे लोगों को चिन्हित कर उस पर विभागीय एवं कानूनी कार्रवाई होना चाहिए।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।