अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उम्र के अंतिम पड़ाव पर राशन-पेंशन हो गये बंद

मनोहरपुर प्रखंड के चिरिया बाजारहाता निवासी 80 वर्षीय सुकेसी सामसुखा की जिंदगी सरकारी फाइलों में उलक्ष कर रह गई है। उम्र के अंतिम पड़ाव में सभी सरकारी योजनाओं का लाभ मिलना बंद हो गया है, जिससे उनके सामने रोजी रोटी की समस्या उत्पन्न हो गई है। वह तो पड़ोसियों का भला हो कि उन्हें दो वक्त की रोटी दे रहे हैं, जिससे अबतक उनकी भूख से मौत नहीं हुई है।

सुकेसी सामसुखा ने बताया कि उन्होंने शादी नहीं की। जिस कारण अकेले ही रहती हैं। पहले उन्हें सरकारी योजनाओं का लाभ मिलता था, जिससे बीपीएल कार्ड पर हर माह राशन मिलता था और सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत वृद्धा पेंशन भी मिलती थी। इससे उम्र के अंतिम पड़ाव में जिंदगी आराम से कट रही थी। वर्ष 2015 में उनका आधार कार्ड नहीं बना। इसके बाद से ही उन्हें राशन मिलना बंद हो गया है।

हालांकि, सरकार ने स्पष्ट आदेश दिया है कि अगर आधार कार्ड नहीं तो राशन नहीं मिलेगा। सरकारी आदेश के बाद उन्हें राशन मिलना बंद हो गया।वर्ष 2017 में बंद हो गय पेंशन सुकेसी सामसुखा ने बताया कि उनका आधार कार्ड नहीं होने के कारण बैंक के पासबुक से आधार कार्ड लिंक नहीं हो सका। जिस कारण वर्ष 2017 से ही सामाजिक सुरक्षा पेंशन बंद हो गयी। इसके बाद पड़ोसियों की मदद से आधार कार्ड बनवाया और बैंक का चक्कर काट कर आधार कार्ड बैंक के पासबुस से लिंक कराया। लेकिन इसके बाद भी अबतक पेंशन शुरू नहीं हुई।

अब भुखमरी की नौबत आ गई है। लेकिन, पड़ोसियों द्वारा उन्हें पिछले कई सालों से खाना खिलाया जा रहा है, जिससे वह अबतक जीवित हैं।

मामले की जांच कर जल्द शुरू करायी जायेगी पेंशन : बीडीओ मनोहरपुर बीडीओ जीतेंद्र कुमार ने कहा कि मामले की जांच की जायेगी। कहा, कई बार राशन डीलरों को स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि अगर किसी के पास आधार कार्ड नहीं है तो भी उसे राशन देना है। लेकिन इसके बाद भी उसे राशन मिलना कैसे बंद हो गया है इसकी जांच करायी जायेगी और दोषी के खिलाफ कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि जल्द ही जांच कर पेंशन शुरू करा दी जायेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ration-pension is closed at the last stop of age