ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड चक्रधरपुररेलकर्मियों को नहीं मिल रही पार्किंग की सुविधा

रेलकर्मियों को नहीं मिल रही पार्किंग की सुविधा

चक्रधरपुर रेल मंडल यूं तो भारतीय रेल में सबसे ज्यादा राजस्व देने वाले रेल...

रेलकर्मियों को नहीं मिल रही पार्किंग की सुविधा
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,चक्रधरपुरFri, 21 Jan 2022 05:40 PM

चक्रधरपुर रेल मंडल यूं तो भारतीय रेल में सबसे ज्यादा राजस्व देने वाले रेल मंडलों में से एक है। लेकिन जिन रेल कर्मियों की मेहनत के बदौलत रेलवे बड़े पैमाने पर राजस्व अर्जित करता है उन्हीं रेलकर्मियों को सुविधाएं देने में रेल मंडल फिसड्डी है। चक्रधरपुर रेल मंडल के राउरकेला रेलवे स्टेशन में भी यही हाल है। राउरकेला रेलवे स्टेशन में रेल कर्मियों के वाहनों की पार्किंग के लिए किसी भी तरह की कोई व्यवस्था नहीं है। इस स्टेशन में कैरेज एंड वैगन, बिजली विभाग, ऑपरेटिंग विभाग, कॉमर्शियल विभाग सहित अन्य विभागों के सैकड़ों कर्मचारी प्रत्येक दिन तीन शिफ्टों में रोजाना काम करते हैं। लेकिन जिस वाहन से रेल कर्मी स्टेशन में ड्यूटी के लिए पहुंचते हैं उस वाहन को रखने के लिए रेल कर्मियों को सौ बार माथापच्ची करनी पड़ती है। कहीं भी राउरकेला रेलवे स्टेशन में रेल कर्मियों के लिए आसानी से वाहन रखने की कोई माकूल पार्किंग की व्यवस्था नहीं की गयी है। पिछले दिनों डीआरएम ने जब राउरकेला रेलवे स्टेशन का दौरा किया तो उन्होंने रेल कर्मियों की गाड़ियों को स्टेशन के सामने खड़ी देखकर अपनी नाराजगी जतायी। कहा गया की स्टेशन के सामने से रेल कर्मियों के वाहनों को हटाया जाए। अब रेल मंडल का छोटा सा रेल कर्मी डीआरएम के इस रवैये का विरोध कैसे करे, और कैसे बताये की एक रेल कर्मी को ड्यूटी के दौरान स्टेशन में रेल कर्मियों के लिए पार्किंग की उचित व्यवस्था नहीं होने से क्या क्या समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अब रेल कर्मियों में यह चर्चा है की जो रेल अधिकारी अपने कार्यालय से पांच मीटर की दुरी पर अपनी गाडी पार्क कर चार कदम चलकर ऑफिस पहुंच जाता है उन्हें रेल कर्मियों की समस्याओं की फ़िक्र कहां। इधर राउरकेला रेलवे स्टेशन में रेल कर्मियों पर अब यह भी दबाव बनाया जा रहा है की वे अपनी वाहनों को रेलवे के ठेके पर दिए गए साइकिल स्टैंड में पैसे देकर खड़ी करें। यानि की अप्रत्यक्ष रूप से राउरकेला के साईिकल स्टैंड के ठेकेदारों को आर्थिक लाभ पहुंचाने की कवायद शुरू हो गयी है। प्रत्येक रेलकर्मी से साईिकल स्टैंड पर 300 रुँपये मासिक किराया वसूला जायेगा, तब जाकर रेलकर्मी साईिकल स्टैंड पर अपना वाहन पार्क कर पाएंगे। कुल मिलाकर कहा जाए तो साईिकल स्टैंड संचालक रेलवे के ही सैकड़ों के कम्र्काह्रियों से मासिक 45 हजार रूपये से ज्यादा की वसूली करेगा।

epaper