ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड चक्रधरपुरट्रेन ठहराव को लेकर बिसरा में 30 को रेल चक्का जाम

ट्रेन ठहराव को लेकर बिसरा में 30 को रेल चक्का जाम

चक्रधरपुर रेल मंडल के बिसरा रेलवे स्टेशन में ट्रेन ठहराव की मांग को लेकर...

ट्रेन ठहराव को लेकर बिसरा में 30 को रेल चक्का जाम
हिन्दुस्तान टीम,चक्रधरपुरSun, 29 Oct 2023 08:00 PM
ऐप पर पढ़ें

चक्रधरपुर रेल मंडल के बिसरा रेलवे स्टेशन में ट्रेन ठहराव की मांग को लेकर स्थानीय ग्रामीणों के द्वारा बिसरा पब्लिक एक्शन कमिटी के बैनर तले 30 अक्टूबर को रेल चक्का जाम किया जायेगा। इसको लेकर बिसरा और आसपास के हजारों ग्रामीण बड़े पैमाने पर तैयारी कर रहे हैं। ग्रामीणों के रेल चक्का जाम की तैयारी से रेलवे के हाथ-पांव फुले हुए हैं। रेलवे के द्वारा बिसरा पब्लिक एक्शन कमेटी के साथ एक बैठक की गयी जिसमें बंडामुंडा एआरएम राजकिशोर मोहंती, एएससी एके सिंह और बंडामुंडा आरपीएफ थाना प्रभारी मौजूद थे।
बैठक के दौरान रेल अधिकारियों ने बिसरा रेलवे स्टेशन में ट्रेन ठहराव सुनिश्चित करने के लिए 6 महीने का समय मांगा। इसको लेकर ग्रामीण और ज्यादा गुस्से में आ गए। ग्रामीणों ने बैठक में रेलवे के खिलाफ खूब हंगामा मचाया और समय देने से इंकार करते हुए 30 अक्टूबर को हर हाल में रेल चक्का जाम करने की घोषणा कर दी। रेलवे अधिकारियों को उलटे पांव वापस लौटना पड़ा और वार्ता विफल हो गयी। ग्रामीणों का कहना है की कोरोना काल से वे ट्रेन के लिए तरस रहे हैं। रेलवे सिर्फ आश्वासन दे रही है। भाजपा के विधायक शंकर ओराम ने भी पत्र लिखकर रेल मंत्री से बिसरा में ट्रेन ठहराव की मांग की लेकिन इसपर रेलवे ध्यान नहीं दे रही है। बिसरा स्टेशन में ट्रेन ठहराव नहीं होने से बच्चों की पढ़ाई, गरीबों का रोजगार, मजदूरी, बीमार का ईलाज सबकुछ मुश्किल हो गया है। बिसरा, जरायकेला, भालुलता बिसरा के हजारों ग्रामीण ट्रेन के लिए त्राहिमाम कर रहे हैं। लेकिन रेलवे को यहाँ के लोगों की परेशानी नहीं दिख रही है। बीजद के वरीय नेता ने कहा की हजारों ग्रामीण 30 नवम्बर को बिसरा एक्शन कमिटी के बैनर रेल चक्का जाम करेंगे। जब तक बिसरा में ट्रेन ठहराव नहीं होगा तब तक रेल चक्का जाम होगा। रेल चक्का जाम से जो भी समस्या उत्पन्न होगी उसके लिए केवल रेल प्रशासन जिम्मेवार होगी, क्योंकि रेलवे ग्रामीणों के जायज मांग को कुचलने का काम कर रहे। लेकिन अब ग्रामीण लोकतान्त्रिक तरीके से आन्दोलन के जरिये लड़ाई लड़कर अपना हक और अधिकार लेगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।