DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › चक्रधरपुर › उड़िया शिक्षक की नहीं हुई बहाली तो आंदोलन करेंगे समाज के लोग
चक्रधरपुर

उड़िया शिक्षक की नहीं हुई बहाली तो आंदोलन करेंगे समाज के लोग

हिन्दुस्तान टीम,चक्रधरपुरPublished By: Newswrap
Mon, 27 Sep 2021 06:21 PM
उड़िया शिक्षक की नहीं हुई बहाली तो आंदोलन करेंगे समाज के लोग

बंदगांव। कराईकेला बाजार परिसर में रविवार को उड़िया समाज की बैठक वरिष्ठ नेता अशोक षाड़ंगी की अध्यक्षता में हुई। बैठक में लोगों ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा उड़िया भाषा को राज्य का द्वितीय भाषा का दर्जा देकर भी अपेक्षित किया जा रहा है। इससे विद्यालयों में उड़िया भाषा की पढ़ाई नहीं हो रही है। उड़िया भाषा के शिक्षकों की भी बहाली नहीं हो रही हैं। जिससे हमारा उड़िया समाज अपने आपको अपेक्षित महसूस कर रहा हैं। इसलिए बाध्य होकर उड़िया समाज राज्य सरकार के खिलाफ उग्र आंदोलन करेगी। मौके पर अशोक षाड़ंगी ने कहा कि यह सरकार उड़िया भाषा को अपेक्षित कर रहा हैं जो नहीं करना चाहिए। राज्य में उड़िया भाषा बोलने वालों की संख्या काफी अधिक हैं। इसलिए उड़िया समुदाय की भावना को देखते हुए सरकार को उड़िया भाषा को बढ़ावा देने का कार्य करना चाहिए। उन्होंने कहा कि पूर्वी सिंहभूम, पश्चिमी सिंहभूम तथा सरायकेला-खरसावां समेत अन्य जिलों में उड़िया भाषा बोली जाती हैं। सरकार को अविलंब इस पर निर्णय लेते हुए शिक्षकों की बहाली तथा विद्यालय में उड़िया भाषा की पढ़ाई करना चाहिए। आगामी 28 सितंबर को तीन जिले के लोग सरायकेला उपायुक्त कार्यालय में सरकार के खिलाफ धरना देंगे। जेपीएससी में उड़िया भाषा को हटाना एक साजिश हैं। मौके पर गौरांग प्रधान, समीर षाड़ंगी, राकेश त्रिपाठी, शंभू महापात्र, अमूल्य मंडल, बीजू प्रमाणिक, अरुण साहू, वीरु त्रिपाठी, निशिकांत त्रिपाठी, भूदेव त्रिपाठी आदि मौजूद थे।

संबंधित खबरें