DA Image
24 सितम्बर, 2020|11:49|IST

अगली स्टोरी

सौतन के कहने पर पति ने रेल ट्रैक किनारे फेंका बच्चा

default image

सौतन के कहने पर मेरे पति ने डेढ़ महीने के बच्चे को झाड़ियों में रेल पटरी के किनारे फेंक दिया था। मेरे बच्चे को भगवान ने ही बचाया है। यह बातें सीता गागराई ने पंद्रह दिनों के बाद अपने से बिछड़े डेढ़ महीने के बच्चे के मिलने पर कहीं। मां को बच्चे से मिलवाने के लिए इस कार्य में चक्रधरपुर प्रखंड की होयोहातु पंचायत की मुखिया पालो हांसदा व उसके पति जागेन हांसदा ने अहम भूमिका निभायी। मंगलवार को जमशेदपुर के चाईल्ड केयर सेंटर सहयोग विलेज से कागजी प्रक्रिया पूरा करने के बाद अपने डेढ़ महीने के बच्चे को लेकर सीता गागराई अपने मायके होयोहातु लेकर पहुंची। जमशेदपुर से लौटने के बाद चक्रधरपुर में पत्रकारों को सीता गागराई ने पत्रकारों को अपनी आपबीती बतायी। बता दें कि 12 अगस्त की सुबह चक्रधरपुर के रिफ्यूजी कॉलोनी रेलवे लाइन के पास झाड़ियों से एक डेढ़ महीने के बच्चे को लावारिस हालत में बरामद कर प्राथमिक उपचार कराकर चाईल्ड लाईन भिजवा दिया था। इसके तीन दिन बाद बच्चे की मां सामने आयी थी। जहां उसने अपने पति विक्रम गागराई व सौतन जीरा गागराई पर बच्चे को झाड़ियों में फेंकने का आरोप लगाया था। पुलिस ने मामले की जांच करते हुये विक्रम गागराई व जीरा गागराई को हिरासत में लिया तो दोनों ने अपना जुर्म कबूल लिया था। इसके बाद दोनों को जेल भेज दिया गया। इधर बच्चा जमेशदपुर के चाईल्ड लाईन में था, जहां से सीता गागराई ने बच्चे को हासिल किया।

धोखे से मेरे पति ने मुझसे किया था प्रेम विवाह

सीता गागराई ने पत्रकारों को बताया कि धोखे से कराईकेला थाना क्षेत्र के कंसरा गांव निवासी विक्रम गागराई ने मुझसे प्रेम विवाह किया था। जबकि मुझे छह महीने बाद पता चला कि वह पहले से विवाहित है। सीता गागराई ने कहा कि लगभग डेढ़ साह पहले कंसरा गांव निवासी विक्रम गागराई से मेरी पहचान हुई थी। पिछले वर्ष अक्तूबर महीने में उसने मेरे साथ मेरा विवाह किया। इसके बाद मुझे वह अपने साथ विशाखापट्म ले गया। विशाखापट्नम में वह एक कंपनी में मजदूरी का काम करता था। छह महीने पहले वह मुझे अपने गांव कंसरा लेकर गया तो मुझे पता चला कि वह पहले से विवाहित है उसका एक बच्चा भी था, जो बीमारी से पूर्व में मर चुका था। घर आने के बाद उसकी पहली पत्नी ने मेरे साथ झगड़ा किया। हालांकि दोनों परिवार के समझाने के बाद मैं भी कंसरा में पति के साथ रहने लगी। लेकिन अक्सर मेरी सौतन मुझसे झगड़ा करती थी। इस बीच पति भी मेरे साथ मारपीट करने लगा। 11 अगस्त को भी पति ने मेरे साथ मारपीट किया। पति के कहने पर मैं अपने बच्चे को पति व सौतन के पास छोड़कर मायके आ गई थी। लेकिन उन दोनों ने रेल किनारे ले जाकर मेरे बच्चे को फेंक दिया था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Husband threw child on rail track at Sautan 39 s direction