ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड चाईबासा नाली निर्माण के लिए ठेकेदार ने गड्ढा खोद छोड़ा, दुकानदारों में आक्रोश

नाली निर्माण के लिए ठेकेदार ने गड्ढा खोद छोड़ा, दुकानदारों में आक्रोश

गुवा।पर्व-त्योहार के दौरान नाली निर्माण हेतु गड्ढा खोद महीनों पूर्व से छोड़ दिये जाने को लेकर मेन मार्केट किरीबुरु के दुकानदारों में सेल की किरीबुरु...

नाली निर्माण के लिए ठेकेदार ने गड्ढा खोद छोड़ा, दुकानदारों में आक्रोश
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,चाईबासाTue, 27 Sep 2022 04:10 PM
ऐप पर पढ़ें

गुवा।पर्व-त्योहार के दौरान नाली निर्माण हेतु गड्ढा खोद महीनों पूर्व से छोड़ दिये जाने को लेकर मेन मार्केट किरीबुरु के दुकानदारों में सेल की किरीबुरु प्रबंधन व ठेकेदार के खिलाफ भारी आक्रोश व्याप्त है।मेन मार्केट के दुकानदारों ने आपस में लगभग 1200 रुपये चंदा कर बाजार के अंदर जाने वाले मुख्य मार्ग में खोदे गये गड्ढा को मजदूरों से भरवाया। दुकानदारों ने बताया कि सेल की किरीबुरु प्रबंधन की सिविल विभाग ने मेन मार्केट क्षेत्र के जल जमाव व पानी निकासी से संबंधित समस्या के समाधान के लिए नाली निर्माण का ठेका लगभग तीन से चार वर्ष पूर्व बड़बिल के ठेकेदार रजनीश को दिया था। ठेकेदार बीते चार वर्ष के दौरान नाली निर्माण का कोई कार्य नहीं किया। दो-तीन माह पूर्व उसने कार्य प्रारम्भ कराया।इससे दुकानदारों में खुशी हुई की पूजा से पहले लगभग 100 मीटर लंबी नाली का निर्माण 15-20 दिन में हो जायेगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ।ठेकेदार ने नाली निर्माण हेतु दुकानों के सामने गड्ढा खोद कर छोड़ दिया और नाली निर्माण का कार्य बंद कर दिया।अब हालत यह है कि सड़क व दुकान के बीच खोदे गये गड्ढे को पार करने के लिए सभी उम्र के लोगेों को परेशानी हो रही है।बीते दिनों पूर्व पंसस और एक महिला इसी नाली में गिरकर घायल हो चुके है। दुकानदारों का कहना है कि जब नाली निर्माण नहीं कराना था तो सिविल विभाग के अधिकारीयो दुकानदारों के मना करने पर भी गड्ढा क्यों खुदवाया। पूजा के दौरान पहले से बाजार मंदा है।उस पर से यह गड्ढा ग्राहकों को आने नहीं दे रहा है। चार साल बाद भी जब ठेकेदार ने कार्य पूर्ण नहीं किया तो प्रबंधन उसके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं कर रहा है। उसे काली सूची में डाल यह काम स्थानीय ठेकेदार को दे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
epaper