DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › चाईबासा › कलाकरों को रंगमंचीय तकनीक से कराया रूबरू
चाईबासा

कलाकरों को रंगमंचीय तकनीक से कराया रूबरू

हिन्दुस्तान टीम,चाईबासाPublished By: Newswrap
Wed, 01 Sep 2021 05:50 PM
कलाकरों को रंगमंचीय तकनीक से कराया रूबरू

चाईबासा, संवाददाता

कोल्हान कला केंद्र अखरा एवं भारतीय जन नाट्य संघ इप्टा चाईबासा के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित 10 दिवसीय बहुभाषीय तकनीकी नाट्य कार्यशाला का सोमवार को समापन हुआ। बहुभाषीय कार्यशाला में नाट्य विधा में पारंगत एवं ख्याति प्राप्त नाट्य गुरु दिनकर शर्मा, चक्रधरपुर, शिवलाल सागर,मोहम्मद निजाम, सहयोगी छवि दास, प्रभाकर तिवारी, परवेज़ आलम, उषा मिश्रा, प्रकाश कुमार गुप्ता ने रंगमंच एवं बहुभाषीय नाटकों के सफल मंचन के लिए रंगमंचीय तकनीकों की विभिन्न पहुलुओं के विषय में विस्तृत जानकारी दी।

इस दौरान क्षेत्रीय भाषा, वस्तुस्थिति, शारीरिक गतिविधि,भाव, रस, स्वर, वेशभूषा, मानसिक संतुलन, क्षेत्रीय ज्ञान, लोक संगीत, वाद्ययंत्र, नृत्य, मंच सज्जा, प्रकाश व्यवस्था, एकल अभिनय की बारीकियों को बताया। बताया गया कि वर्तमान समय में विभागीय प्रायोजनों में नाट्य विधा के माध्यम से समाज में लोगों को जागरूक करने का भी सहयोग लिया जा रहा है। कार्यशाला में ध्यान केंद्रित करने के लिए शारीरिक अभ्यास के साथ ही बहुभाषी गीत संगीत का भी अभ्यास किया गया। साथ ही प्रशिक्षुओं ने भगवान बिरसा मुंडा पर आधारित संगीतमय क्षेत्रीय एवं हिन्दी भाषा में नाटक उलगुलान का अभ्यास भी किया गया। कार्यशाला के समापन समारोह में नाटक उलगुलान की प्रस्तुति की गई, जिसे दर्शकों ने काफी सराहा और तालियों से सभी कलाकारों का उत्साहवर्धन किया।

कार्यक्रम में मंच का संचालन शीतल सुगन्धिनी बागे ने किया। कार्यशाला में पायल मिश्रा, रोबिन्स कुमार, संजय चौधरी,गौरी खत्री,ने कार्यशाला के आयोजन में सराहनीय योगदान दिया.जेरोय बोयपाई,भरत देवगम,सुमित सिंकू,प्रीति उरांव, खुशबू कुमारी, सरिता उराँव,बीना देवगम,आलोक उरांव,श्रेया कुमारी, सुशांति बोयपाई सहित कई नवोदित कलाकारों ने प्रशिक्षण लिया।

संबंधित खबरें