ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड चाईबासा सारंडा प्रमंडल क्षेत्र में चलेगा जननी सुरक्षा अभियान – डॉ. भारती कश्यप

सारंडा प्रमंडल क्षेत्र में चलेगा जननी सुरक्षा अभियान – डॉ. भारती कश्यप

गुवा । वीमेन डॉक्टर्स विंग आईएमए झारखण्ड एवं फोरेस्ट डिपार्टमेंट, सारंडा वन प्रमंडल के संयुक्त तत्वधान में “मेगा महिला स्वास्थ्य शिविर” का आयोजन...

सारंडा प्रमंडल क्षेत्र में चलेगा जननी सुरक्षा अभियान – डॉ. भारती कश्यप
हिन्दुस्तान टीम,चाईबासाThu, 13 Jun 2024 11:00 AM
ऐप पर पढ़ें

गुवा । वीमेन डॉक्टर्स विंग आईएमए झारखण्ड एवं फोरेस्ट डिपार्टमेंट, सारंडा वन प्रमंडल के संयुक्त तत्वधान में “मेगा महिला स्वास्थ्य शिविर” का आयोजन दिनांक 14 जून 2024 को गुवा के सेल अस्पताल में सुबह 9 बजे से किया जायेगा। इस शिविर के आयोजन में सेल अस्पताल गुवा एवं स्वास्थ्य विभाग पश्चिमी सिंहभूम का विशेष योगदान है। इस मेगा महिला स्वास्थ्य शिविर के मुख्य अतिथि होंगे चाईबासा के डीसी कुलदीप चौधरी और विशिष्ट अतिथि होंगे चाईबासा के डीडीसी. संदीप मीणा।
वूमेन डॉक्टर बीइंग आईएमए. झारखंड पूरे राज्य में 2014 से सर्वाइकल कैंसर उन्मूलन अभियान चला रही है। अभी तक राज्य के 14 बड़े सरकारी अस्पतालों में जननांग संबंधी सूजन की पहचान एवं सर्वाइकल प्री-कैंसर के इलाज के लिए डिजिटल वीडियो कोल्पोस्कोप एवं क्रायो मशीन लग चुकी है। वीमेन डॉक्टर्स विंग आईएमए. झारखण्ड की चेयरपर्सन डॉ भारती कश्यप ने बताया कि संथाल परगना के गाँवों में कैंप लगाने के बाद सारंडा क्षेत्र में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने अपना फोकस किया है और यहां पर गुवा के कैंप के बाद लगातार नोवामुंडी, किरीबुरू और चक्रधरपुर में भी क्रमशः ज्योति सुरक्षा अभियान एवं जननी सुरक्षा अभियान चलाया जाएगा और इसके लिए मेगा स्वास्थ्य शिविर लगाए जाएंगे। जिसका उद्देश्य इस इलाके की आदिवासी जनजातीय एवं गरीब तबके की महिलाओं को जननांग संबंधी समस्याओं से मुक्त करना होगा।

चिन्ह तथा लक्ष्ण

* योनि से बदबूदार स्त्राव।

* महिलाओं में रजोनिवृत्ति के उपरांत रक्तस्त्राव होना।

* शारीरिक संबंध के दौरान रक्तस्त्राव होना।

* दो माहवारियों के बीच में अचानक रक्तस्त्राव होना।

इन लक्षणों से ग्रसित महिलाएं शिविर में आकर महिला रोग विशेषज्ञों की टीम से अपना मुफ्त जाँच एवं इलाज जरूर कराएं।जिन भी महिलाओं को जननांग संबंधी सूजन के लक्षण हो वह महिलाएं इस कैंप में आकर लाभ उठाएं। क्योंकि कैंप में सूजन के ट्रीटमेंट के लिए तो दवाई दी जाएगी उसके साथ-साथ आयरन फोलिक एसिड और कैल्शियम की 1 महीने की खुराक भी मुफ्त में दी जाएगी।

हयूमन पेपिलोम वायरस (एच०पी०वी०) द्वारा संक्रमण के खतरे के कारण

* 18 वर्ष के कम आयु के पूर्व शारीरिक संबंध बनाना।

* एक से अधिक लोगों के साथ शारीरिक संबंध।

* योन रोगों का व्यक्तिगत इतिहास ।

* कई गर्भधारण

* बिना डॉक्टर की सलाह के गर्भनिरोधक गोलियों को लम्बे समय तक प्रयोग।

* कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली।

* धूम्रपान / तम्बाकू को सेवन।

वीमेन डॉक्टर्स विंग आईएमए. झारखण्ड की चेयरपर्सन डॉ भारती कश्यप ने बताया कि यदि आप ऊपर दिये गये किसी भी लक्षण को अनुभव करें तो शीघ्र ही डॉक्टर से सलाह लें। • सभी विवाहित अथवा यौन सक्रिय महिलाओं को नियमित रूप से वी०आई०ए० (विजुअल इंस्पैक्शन विद एसेटिक एसिड) या पैप स्मियर टैस्ट के द्वारा जाँच करानी चाहिए।

* सही जननांग स्वच्छता बनाएं रखें।

* किशोरावस्था एवं प्रारंम्भिक युवा अवस्था में यौन संबंध रखने से बचें।

* एक से अधिक लोगों के साथ यौन संबंध न रखें।

* यौन प्रसारित बीमारियों से स्वयं को बचाएं।

* किसी भी प्रकार के तम्बाकू उत्पाद का प्रयोग न करें।

* 9 से 25 वर्ष के आयु में एच०पी०बी० टीकाकरण करवा कर स्वयं को बचाए।

* अधिक सुरक्षा हेतु टीकाकरण किशोर अवस्था में यौन सक्रिय होने से पूर्व कराएं।

* याद रखें कि टीकाकरण के पश्चात भी नियमित रूप से जांच अवश्य कराएं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
Advertisement