Emphasis on traditional farming in workshop - कार्यशाला में पारंपरिक खेती पर दिया जोर DA Image
21 फरवरी, 2020|11:01|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कार्यशाला में पारंपरिक खेती पर दिया जोर

कार्यशाला में पारंपरिक खेती पर दिया जोर

बिरसा चाईबासा के तत्वावधान में टीआरटीसी में तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें कुमारडुंगी, मंझारी, कुचाई, चक्रधरपुर, सदर प्रखंड के वन कमेटी के सदस्य, किसान एवं मजदूर समिति के सदस्यों ने भाग लिया। इस प्रशिक्षण में जमशेदपुर के सुमित राय, कुचाई से सोहन लाल कुम्हार एवं उमेश शर्मा ने भाग लिया। उमेश शर्मा ने एग्रो इकोलोजी पर अपने विचार रखते हुए कहा कि आजकल सभी नौकरी करना पसंद करते हैं, जिस कारण वे खेती से दूर होते जा रहे हैं। कार्यशाला में परंपरिक बीज, खाद एवं कीटनाशक खुद अपने घर में तैयार का सुझाव दिया गया और बताया गया कि किसानों को परंपरिक खेती की ओर बढ़ने का प्रयास करना चाहिए। सोहन लाल कुम्हार ने वन अधिकार कानून 2006 के बारे में जानकारी दी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Emphasis on traditional farming in workshop