DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › बोकारो › कॉमर्स संकाय में कम अंक मिलने पर छात्रों ने किया विरोध प्रदर्शन
बोकारो

कॉमर्स संकाय में कम अंक मिलने पर छात्रों ने किया विरोध प्रदर्शन

हिन्दुस्तान टीम,बोकारोPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 04:12 AM
कॉमर्स संकाय में कम अंक मिलने पर छात्रों ने किया विरोध प्रदर्शन

सीबीएसई की ओर से 12वीं कक्षा का रिजल्ट जारी किए जाने के बाद डीपीएस बोकारो कॉमर्स के छात्रों ने स्कूल प्रबंधन पर कम मार्क्स देने का आरोप लगाते हुए स्कूल गेट के समक्ष विरोध प्रदर्शन किया। कामर्स छात्रों ने आरोप लगाया कि 11वीं कक्षा में अच्छा मार्क्स आने व 12वीं कक्षा के प्री बोर्ड परीक्षा में भी अच्छा मार्क्स आने के बाद भी स्कूल प्रबंधन की ओर से योग्य छात्रों को भी साइंस के छात्रों से कम मार्क्स दिया है। कामर्स छात्रों ने कहा कि उन्हें कम से कम 90 प्रतिशत से अधिक मार्क्स मिलने की उम्मीद थी पर माकर्स देने का क्रेटेरिया के आधार पर भी कम मार्क्स स्कूल प्रबंधन की ओर से दिया गया है।

अभिभावक अनूप अग्रवाल ने कहा कि दसवीं व 11वीं कक्षा में अच्छा मार्क्स मिलने के बाद 12वीं प्री बोर्ड परीक्षा में भी बेहतर मार्क्स मिलने के बाद भी उनके बेटे को कम मार्क्स दिया गया है। जबकि उनके बेटे को इस बार कम से कम 95 प्रतिशत से अधिक मार्क्स मिलने की उम्मीद था पर मात्र 91 प्रतिशत अंक ही मिला। उन्होंने कहा कि अगर छात्रों को कम मार्क्स ही देना है तो कामर्स विषय को ही बंद कर देना चाहिए।

अभिभावक विश्वरूप ने कहा कि उनकी बेटी अरुणदति को 11वीं में भी अच्छा मार्क्स मिला था व 12वीं कक्षा की प्री बोर्ड परीक्षा में आए मार्क्स के आधार पर 85 प्रतिशत से अधिक अंक मिलने की संभावना थी पर अरुणदति को मात्र 81 प्रतिशत ही अंक मिल पाया। इससे अब उसका नामांकन कराने में काफी कठिनाई होगी।

अभिभावक सुदर्शन वर्मा ने कहा कि उनके बेटे प्रियांशु को दसवीं कक्षा के अलावा 11वीं कक्षा में भी अच्छा मार्क्स मिलने के बाद 12वीं कक्षा के प्री बोर्ड परीक्षा में भी बेहतर अंक मिला पर उसे कॉमर्स में मात्र 74 प्रतिशत मार्क्स मिल पाया है। स्कूल प्रबंधन की मनमानी के कारण सीबीएसई बोर्ड के नियमानुसार उसे 80 प्रतिशत तक अंक मिलना था पर पूराअंकनही ं मिल पाया।

अभिभावक राजेश कुमार दुबे ने कहा कि उनके बेटे आदित्य को इस बार 12 वीं कामर्स के रिजल्ट में काफी कम अंक मिला है। जिससे अब इस अंक के आधार पर उसका नामांकन कराने की चिंता बढ़ गई है। आदित्य को 12वीं की परीक्षा में कम से कम 85 प्रतिशत तक मार्क्स मिलने की उम्मीद थी पर उसे मात्र 79 प्रतिशत ही मार्क्स मिल पाया है।

संबंधित खबरें