DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चिड़काधाम के लिए बड़ी संख्या में निकले कांवरिये

चिड़काधाम के लिए बड़ी संख्या में निकले कांवरिये

पहली सोमवारी से पूर्व सावन माह के दूसरे दिन रविवार को शहर और आसपास के इलाकों में काफी चहल-पहल रही। विभिन्न शिवालयों को सजाने के साथ आकर्षक लाइटिंग की गई। पहली सोमवारी को लेकर गरगा पुल के समीप गरगा नदी और तेलमोच्चो पुल के समीप दामोदर नदी में सुबह से ही श्रद्धालु जुटने लगे। शाम होते-होते दोनों नदी के तट पर शिव भक्तों की भारी भीड़ उमड़ी। दोनों जगहों से बड़ी संख्या में शिवभक्त कांवर लेकर पश्चिम बंगाल के पुरुलिया स्थित चिड़काधाम के लिए रवाना हुए। बोल-बम, बोल-बम के नारे से पूरा शहर गुंजायमान रहा। इससे पूर्व, विधायक समरेश सिंह ने पुपुनकी में दामोदर नदी के घाट का उद्घाटन किया। इसके बाद चिड़काधाम जानेवालों का तांता लगा रहा। देवघर की तरह राज्य के कई हिस्सों से शिवभक्त बोकारो से कांवर और जल लेकर चिड़काधाम के लिए रवाना हुए। बोकारो और आसपास से चिड़काधाम जाने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है। बोकारो के गरगा पुल और दामोदर पुल के पास से हजारों की संख्या में शिवभक्त जलाभिषेक के लिए जल उठाते हैं। सोमवार को जलार्पण के लिए रविवार को बड़ी संख्या में कांवरिये चिड़काधाम के लिए निकले। सोमवार के दिन भगवान भोलेनाथ की विशेष पूजा होती है। इस बार चार सोमवार पर कई शुभ योग बन रहे हैं। इस दिन शिव पूजा करने से विशेष फल की प्राप्ति होगी। सावन में सोमवारी पर भगवान भोलेनाथ की पूजा विशेष फलदाई मानी गई है। पंडित श्रवण झा के अनुसार इस बार ग्रह स्थिति योग के लिहाज से सावन माह सुविधा प्रदान करेगा। रविवार की देर शाम तक शहर के शिवालयों को सजाने का काम चलता रहा। सेक्टर-12 के ओंकारेश्वर शिव मंदिर, माराफारी का शिवालय, बांसगोड़ा, रितुडीह, सेक्टर-9, 11, 2, 4 सहित अन्य सेक्टरों के मंदिरों की विशेष लाइटिंग की गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Large number of Kanwarois for Chidakadham