DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मनभावन सांस्कृतिक प्रस्तुतियों से बच्चों ने दी गुरु दक्षिणा

मनभावन सांस्कृतिक प्रस्तुतियों से बच्चों ने दी गुरु दक्षिणा

बोकारो की त्रिसप्तिका संस्था ने रविवार को गुरु पूर्णिमा के उपलक्ष्य में गुरु दक्षिणा कार्यक्रम आयोजित किया। नगर के सेक्टर- 5 स्थित आशा लता विकलांग विकास केंद्र के हेलेन केलर सभागार में आयोजित कार्यक्रम में बड़ी संख्या में बच्चों ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। बच्चों ने गीत और नृत्य के साथ वाद्य यंत्र-वादन से मनभावन रंगारंग कार्यक्रम पेश कर अपनी गुरु दक्षिणा समर्पित की। कार्यक्रम दो सत्र में संपन्न हुआ। प्रात: कालीन सत्र में आयोजित समूह नृत्य प्रतियोगिता में छात्र-छात्राओं ने विभिन्न विषय वस्तुओं पर आधारित नृत्य-कला का प्रदर्शन कर भरपूर सराहना बटोरी। समेकित प्रदर्शन के आधार पर बंजारा डांस ग्रुप को प्रथम पुरस्कार मिला। टीम ने घूमर थीम पर अपनी प्रस्तुति दी। टीम में राज नंदिनी, दिव्य कुसुम, तनिमा चटर्जी और अनन्या बोस शामिल थीं। इसके बाद अप्सरा डांस ग्रुप, नटराज डांस ग्रुप, लीजेंडरी डांस ग्रुप और रेड सी डांस ग्रुप की टीमें क्रमश: दूसरे तीसरे चौथे और पांचवें स्थान पर रहीं। इससे पूर्व, कोलकाता के प्रख्यात तबला वादक विश्वजीत पाल तथा जमशेदपुर के सुप्रसिद्ध गिटारवादक संदीप विश्वास ने दीप जलाकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। त्रिसप्तिका की निदेशक डांस गुरु अंकिता चक्रवर्ती ने संस्था के कार्यों की जानकारी दी। विश्वजीत पाल ने कहा कि संगीत प्रकृति के कण-कण में विद्यमान है। संगीत और कला हर किसी के बस की बात नहीं। अपने आप में यह एक विलक्षण प्रतिभा होती है। उन्होंने कहा कि संगीत में रियाज ही सबसे बड़ा गुरु है। बच्चों को चाहिए कि वे नियमित रियाज करें और अपनी प्रतिभा को और निखारें। संदीप विश्वास ने भी संगीत की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कलात्मक विकास की दिशा में त्रिसप्तिका के कार्यों की सराहना की। शाम में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें संस्था के बच्चों ने गायन, वादन और नृत्य की एक से एक बढ़कर प्रस्तुतियां दीं। मुख्य अतिथि ओएनजीसी के उपमहाप्रबंधक (वेधन) एसके पाल थे। उन्होंने बच्चों की प्रस्तुतियों की सराहना करते हुए विजेताओं को पुरस्कृत किया। इस सत्र में विश्वजीत पाल और संदीप विश्वास की जुगलबंदी भरी प्रस्तुति मुख्य आकर्षण का केंद्र रहा। इससे पूर्व, संस्था के सचिव रजनीकांत प्रभाकर ने स्वागत भाषण किया। तत्पश्चात संस्था की तरफ से अतिथि कलाकारों को स्मृति-चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया गया। डांस गुरु अंकिता चक्रवर्ती और उनकी छात्राओं ने समूह-नृत्य की सुंदर प्रस्तुति दी।

इन्हें मिला सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार

कार्यक्रम में प्रस्तुतियों के आधार पर 10 सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार दिए गए। त्रिसप्तिका परिवार अवार्ड के नाम से सर्वश्रेष्ठ पुरस्कारों की कड़ी में बेस्ट डांस डेब्यू अवार्ड प्राप्ति (जूनियर) एवं वंदना पांडेय (सीनियर), सर्वश्रेष्ठ जोड़ी अवार्ड अवनी एवं श्रीविद्या, बेस्ट कंपोजीशन अवार्ड रेड सी डांस ग्रुप, बेस्ट कास्ट्यूम अवार्ड लिटिल बर्ड्स, बेस्ट एक्सप्रेशन अवार्ड श्रुति तिवारी, सर्वश्रेष्ठ कत्थक नृत्य पुरस्कार आस्था रानी, बेस्ट वेस्टर्न डांसर अवार्ड नेहा घोष, बेस्ट ग्लैमरस डांसर का पुरस्कार अभिलाषा डे, फेवरेट बुजुर्ग पंखुड़ी कश्यप तथा योग्य बेटी का पुरस्कार अग्रिमा आर्य को मिला।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Due to graceful cultural presentations, the children gave the Guru Dakshina