DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  बोकारो  ›  प्राकृतिक गंदे नाले के कारण दूषित हो रहा है दामोदर
बोकारो

प्राकृतिक गंदे नाले के कारण दूषित हो रहा है दामोदर

हिन्दुस्तान टीम,बोकारोPublished By: Newswrap
Sat, 12 Jun 2021 04:10 PM
प्राकृतिक गंदे नाले के कारण दूषित हो रहा है दामोदर

विद्युतनगरी चंद्रपुरा के एक प्राकृतिक गंदे नाले के कारण दामोदर नद दूषित हो रहा है। कोयलांचल की लाइफ लाइन दामोदर की दशा कई संस्थानों के कचड़े व गंदे पानी की वजह से भी खराब है। इसमें मिलने वाले नालों का भी बुरा हाल है। दामोदर में कई नदी-नाले मिलते हैं। चंद्रपुरा स्टेशन रोड का प्राकृतिक जोरिया नाला भी दामोदर नदी को दूषित कर रहा है। पूरे डीवीसी कॉलोनी व चंद्रपुरा का मलमूत्र इसी नाले में गिरता है जो अंतत: दामोदर में जाता है। चद्रपुरा जगन्नाथ मंदिर के पास इसकी खराब दशा को देखा जा सकता है। इस नाले का अतिक्रमण भी बड़े पैमाने पर हुआ है।

दामोदर में कई बार मरी मछलियां: दामोदर के पानी में खतरनाक केमिकल मिलने की पुष्टि हो चुकी है। बीएसपी का गंदा पानी दुगदा के निकट सीधे नदी में प्रवाहित होने की शिकायत मिलती रही है। इसके पानी से खतरनाक रोग की संभावना है। बड़ी तादाद में यहां पर मछलियां नदी में मर चुकी है। दामोदर प्रदूषित न हो इसके लिए डीवीसी ने यहां पर ऐश पौंड बनाया हुआ है।

कल-कारखाने भी हैं जिम्मेवार: दामोदर बचाओ आंदोलन के प्रदेश संयोजक प्रवीण सिंह के अनुसार दामोदर की दशा के लिए कोयलांचल के पब्लिक सेक्टर व कल कारखाने जिम्मेवार हैं। सरयू राय के नेतृत्व में किए गए आंदोलन का असर यह पड़ा कि धीरे-धीरे प्रदूषण के मामले में गंभीरता दिखी और कुछ अंकुश लगा। डीवीसी के बोकारो थर्मल और चंद्रपुरा थर्मल में जहां ऐश पौंड की छाई सीधे नदी में जाता था अब नहीं जा रहा।

संबंधित खबरें