DA Image
15 जुलाई, 2020|1:22|IST

अगली स्टोरी

प्रतियोगिता से निखरती है प्रतिभा

प्रतियोगिता के आयोजन से खिलाड़ियों को प्रतिभा निखारने का अवसर मिलता है। साथ ही मनोबल ऊंचा रहता है।

उक्त बातें पूर्व मंत्री उमाकांत रजक ने भोजूडीह के सेरसा ग्राउंड में नेताजी क्लब की ओर से आयोजित तीन दिवसीय खेलकूद के समापन समारोह में कही। रजक ने कहा कि बच्चों के लिए पढ़ाई के साथ-साथ खेलकूद जरूरी है। खेल प्रतियोगिता से शरीरिक व मानसिक विकास होता है। रजक ने कहा कि अपने कार्यकाल में खेल को बढ़ावा देने के लिए प्रखंड में स्टेडियम का निर्माण कराया। क्षेत्र में सर्वांगीण विकास का काम कराकर चंदनकियारी पर लगे पिछड़ा की दाग को मिटाने का काम किया। रजक ने प्रतिभागियों को नए साल की शुभकामनाएं दी। तीन दिवसीय इस प्रतियोगिता में लंबी दौड़, ऊंची कूद, लंबी कूंद, म्यूजिकल चेयर, गोला फेंक आदि खेलों में सैकड़ों प्रतिभागियों ने भाग लिया। सफल प्रतिभागियों को मुख्य अतिथि उमाकांत रजक ने पुरस्कार देकर सम्मानित किया। मौके पर मानिक महथा, तपन सिंह चौधरी, मुखिया शरत टुडू, बाटूल राय, महावीर महथा, देवाशीष मंडल, प्रकाश शर्मा, हरीश रजक, भृगुराम महथा, सुबोध पात्र, वाई हरिनाथ देव, बच्चू राव, रमेश शर्मा, वैद्यनाथ महथा, अमित सिंह, दुखी दास, श्यामसुंदर माहथा, तारकेश्वर राव, जयदेव मुखर्जी, बबलू नंदी, दिलीप मांझी, तरुण बाउरी, देवाशीष सिंहव अन्य मौजूद रहे।