Bulldozers will run in one thousand huts - एक हजार झोपड़ियों में चलेगा बुलडोजर DA Image
16 नबम्बर, 2019|2:22|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक हजार झोपड़ियों में चलेगा बुलडोजर

एक हजार झोपड़ियों में चलेगा बुलडोजर

बोकारो एयरपोर्ट की बाउंड्री से सटीं करीब एक हजार से अधिक झोपड़ियों पर जल्द ही प्रशासन का बुलडोजर चलेगा। इसके लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के निर्देश पर जिला प्रशासन तैयारी में जुट गया है। अगले सप्ताह से अतिक्रमण हटाओ अभियान शुरू होगा।

एयरपोर्ट परिसर के साथ-साथ आसपास के इलाकों को झुग्गी झोपड़ियों से मुक्त कराया जाएगा। बार-बार एयरपोर्ट की नवनिर्मित बाउंड्रीवाल को क्षतिग्रत किए जाने के बाद प्रशासन ने कार्रवाई की योजना तैयार की है। आसपास अवैध रूप से चल रहीं मीट दुकानों को भी हटाया जाएगा। ताकि एयरपोर्ट के विस्तारिकरण का काम बेहतर ढंग से हो सके।

दूसरी बार खाली कराई जाएगी झोपड़पट्टी : नवंबर-दिसंबर 2018 में जिला प्रशासन ने बाउंड्रीवाल के समीप की झोपड़पट्टियों को हटाने के लिए प्रशासन ने कार्रवाई की थी। करीब तीन दिनों तक चले प्रशासन के अभियान के बाद अधिकांश लोग घर छोड़कर अन्यत्र चले गए थे। लेकिन, जिला प्रशासन की सुस्ती के कारण दोबारा सभी अपने-अपने अपने घरों में वापस आ गए।

पेड़ों की हो रही कटाई : एयरपोर्ट विस्तारिकरण में बाधक बने सात हजार पेड़ों की कटाई जोर शोर से जारी है। अबतक दो हजार पेड़ों की कटाई हो चुकी है, जिन्हें बीएसएल के सेक्टर वन स्थित विद्यालय परिसर में रखा गया है। छोटे पेड़ों को शहर के अन्यत्र स्थानों पर रोपण की योजना है।

टर्मिनल बिल्डिंग का काम शुरू : पेड़ों की कटाई होने के बाद 15 करोड़ की लागत से बननेवाले टर्मिनल बिल्डिंग का काम शुरू कर दिया गया है। दो माह के अंदर टर्मिनल बिल्डिंग का काम भी पूरा होने की उम्मीद है। हालांकि पूर्व से ही इसके लिए सभी मशीनें एयरपोर्ट परिसर में लाई गई हैं। लेकिन, पेड़ की मौजूदगी के कारण यह काम अधर में था। यही नहीं रनवे का काम भी पूरा कर लिया गया है।

वर्जन-एयरपोर्ट विस्तारिकरण के लिए बाउंड्री परिसर और आसपास बनीं अवैध झोपड़पट्टियों को खाली कराया जाएगा। इसके लिए जिला प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है।- हेमा प्रसाद, अनुमंडल पदाधिकारी, चास।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bulldozers will run in one thousand huts