DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  बोकारो  ›  बीएसएल के क्षतिग्रस्त क्वार्टरों की नहीं हो सकी मरम्मत
बोकारो

बीएसएल के क्षतिग्रस्त क्वार्टरों की नहीं हो सकी मरम्मत

हिन्दुस्तान टीम,बोकारोPublished By: Newswrap
Sat, 29 May 2021 11:41 PM
बीएसएल के क्षतिग्रस्त क्वार्टरों की नहीं हो सकी मरम्मत

मॉनसून से पूर्व बोकारो इस्पात प्रबंधन जर्जर आवासों की मरम्मत को लेकर अबतक गंभीर नहीं हुआ है। जिसका खामियाजा बोकारो शहर के विभिन्न सेक्टरों में रहनेवाले बीएसएल कामगारों को भुगतना पड़ सकता है। चक्रवाती तूफान के कारण महज तीन दिनों की बारिश में छह से अधिक बीएसएल के ब्लॉक का छज्जा से लेकर सीढ़ी तक भरभराकर गिर गई है। ऐसे में आनेवाले मॉनसून में जर्जर आवासों में रहनेवाले बीएसएल कामगार चिंतित, हैरान और परेशान हैं। यदि मॉनसून से पूर्व जर्जर आवासों की मरम्मत नहीं हुई तो स्थिति गंभी भी बन सकती है।

बीएसएल के 639 बिल्डिंग को किया जाना है दुरुस्त : बोकारो इस्पात नगर के विभिन्न सेक्टरों में 6 हजार 437 आवासों को विशेष मरम्मत योजना के तहत चुस्त-दुरुस्त कराया जाना है। जिसे लेकर प्रबंधन बीते छह माह से तैयारी कर रहा है। इनमें से करीब 100 आवासों की मरम्मत भी की गई है। इसके लिए अलग-अलग सेक्टर में मरम्मत के लिए 30 एजेंसी को कार्य भी सौंपा गया है। लेकिन, लॉकडाउन के कारण फिलहाल बड़े स्तर पर काम पूरी तरह से बंद हो चुका है। ऐसे में एक बार फिर से आवासों में खतरा मंडराने लगा है।

नालियों की भी नहीं हुई मरम्मत : शहर में सड़कों की मरम्मत के साथ साथ नालियों की भी अबतक मरम्मत नहीं हुई है। अधिकांश सेक्टरों की नालियां जाम हैं। जिस कारण भारी बारिश हुई तो शहरवासियों को जलजमाव से परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। यही नहीं बड़ी नालियों के साथ साथ ब्लॉक की छोटी नालियां भी साफ सफाई के अभाव में पूरी तरह से ढक चुकी हैं। जो आनेवाले बारिश के समय कहर बरपा सकती हैं।

वर्जन--बीएसएल सेक्टर के जर्जर आवासों की मरम्मत बारिश पूर्व नहीं होने से परेशानी हो सकती है। मामले पर प्रबंधन को गंभीर होना चाहिए। ताकि बारिश में लोगों को कम से कम खतरा का सामना करना पड़े।-अबू नसर, एटक

संबंधित खबरें