ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड बोकारोकरोड़ों का राजस्व देनेवाला बेरमों को अबतक नहीं मिला जिला का दर्जा

करोड़ों का राजस्व देनेवाला बेरमों को अबतक नहीं मिला जिला का दर्जा

राज्य सरकार को प्रतिवर्ष करोड़ों रूपये का राजस्व देने वाला बोकारो जिले का बेरमो अनुमंडल आज भी जिला का दर्जा पाने के लिए महरूम है लेकिन इसे जिला का...

करोड़ों का राजस्व देनेवाला बेरमों को अबतक नहीं मिला जिला का दर्जा
हिन्दुस्तान टीम,बोकारोMon, 11 Dec 2023 04:45 PM
ऐप पर पढ़ें

राज्य सरकार को प्रतिवर्ष करोड़ों रूपये का राजस्व देने वाला बोकारो जिले का बेरमो अनुमंडल आज भी जिला का दर्जा पाने के लिए महरूम है लेकिन इसे जिला का दर्जा दिलाने में झारखंड की किसी भी सरकार ने पहल नही की जिसके चलते अनुमंडल का दर्जा मिले 51 वर्ष हो गया लेकिन जिला का दर्जा अब तक नहीं मिल पाया बेरमो अनुमंडल को। बेरमो को जिला का दर्जा दिलाने के लिए कई बार आंदोलन किया गया लेकिन नतीजा सिफर रहा।
1972 में बना था बेरमो अनुमंडल: अविभाजित बिहार के समय 6 दिसंबर 1972 को बेरमो अनुमंडल का दर्जा दिया गया था। उस समय बेरमो अनुमंडल गिरिडीह जिले का अंग हुआ करता था। गिरिडीह जिला से अलग होने के बाद बेरमो अनुमंडल बोकारो जिले का हिस्सा बन गया और तब से अब तक केवल अनुमंडल बना हुआ है। ज्ञात हो कि बेरमो अनुमंडल एक ऐसा अनुमंडल है जो सबसे पुराना अनुमंडल में गिना जाता है उसके बावजूद इसे जिला का दर्जा 50 वर्ष के बाद भी नही मिलना एक सोचनीय विषय है जबकि इसके बाद बने राज्य के कई ऐसे अनुमंडल है जिन्हे जिला का दर्जा उपलब्ध करा दिया गया है।

जिला बनने की सारी अहर्ता है बेरमो में: राज्य का बेरमो अनुमंडल एक ऐसा अनुमंडल है जो जिला बनने के लिए सारी अहर्ताए रखता है उसके बावजूद 50 वर्ष के बाद भी इस अनुमंडल को जिला का दर्जा नही मिल पाया है। बेरमो अनुमंडल की कुल जनसंख्या 2011 की जनगणना के अनुसार 11 लाख, 7,672 है और वर्तमान समय में इसकी जनसंख्या बढ़कर 15 लाख से ऊपर हो चुकी है। इस अनुमंडल में 14 थाना, चार ओ पी, 7 प्रखंड के अलावे सीसीएल के तीन कोलियरियां, कई कोल वासरी, चार विद्युत उत्पादन केंद्र, एशिया महादेश का सबसे बड़ा बारूद कारखाना और मिट्टी से बना तेनुघाट डैम है जहां से करोड़ों रूपये का राजस्व राज्य सरकार को प्रतिवर्ष मिलता है। खनिज संपदाओं से परिपूर्ण होने के बावजूद आज तक बेरमो अनुमंडल को जिला का दर्जा नही मिलना बेरमो अनुमंडल के वासियों के लिए एक दुर्भाग्यपूर्ण है।

कितने कम जनसंख्या में बना अन्य अनुमंडल: राज्य के खूंटी अनुमंडल 5 लाख 31 हजार, रामगढ़ 9 लाख 49 हजार, लातेहार 7 लाख 26 हजार, जामताड़ा 7 लाख 91 हजार ओर कोडरमा 7 लाख 16 हजार की जनसंख्या वाले अनुमंडल को जिला का दर्जा दिया जा चुका है जबकि बेरमो अनुमंडल की कुल जनसंख्या 11 लाख, 7 हजार, 672 होने के बावजूद जिला का दर्जा नही मिल पाया है।

बेरमो को जिला बनाने की मांग को लेकर बेरमो जिला बनाओं संघर्ष समिति की ओर से लगातार आंदोलन किया जा रहा है। आंदोलनकारियों ने सदन से सदन तक पैदल मार्च करते हुए आंदोलन को अंजाम दे चुके है।

विधानसभा में रखा जा चुका है मामला: बेरमो को जिला बनाने की मांग को लेकर गोमिया विधायक डॉ लंबोदर महतो, पूर्व विधायक योगेंद्र प्रसाद महतो की ओर से विधानसभा के विभिन्न सत्रों में बेरमो को जिला बनाने की मांग उठा चुके है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें