DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  बोकारो  ›  बोकारो के गांवों में नहीं हो पा रहा शत प्रतिशत टीकाकरण

बोकारोबोकारो के गांवों में नहीं हो पा रहा शत प्रतिशत टीकाकरण

हिन्दुस्तान टीम,बोकारोPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 05:01 AM
बोकारो के गांवों में नहीं हो पा रहा शत प्रतिशत टीकाकरण

बोकारो के ग्रामीण इलाकों में टीकाकरण की गति काफी धीमी हो गई है। जिले के ग्रामीण इलाकों में 45 प्लस उम्र के लोगों का टीकाकरण हुआ है। लेकिन, लोगों में अब भी टीकाकरण को लेकर उत्साह उतनी नहीं है जितनी उम्मीद की जा रही थी। वहीं, 18 प्लस उम्र के युवाओं में टीकाकरण को लेकर उत्साह जरूर है। लेकिन, टीका समाप्त हो जाने के कारण पिछले छह दिनों से टीकाकरण बंद है। उक्त स्थिति को लेकर युवाओं में उहापोह की स्थिति है। प्रस्तूत हिन्दुस्तान की पड़ताल।

कसमार में में वैक्सीन की कमी : कसमार प्रखंड की कुल आबादी एक लाख के लगभग है। लेकिन, अब तक पूरे कसमार प्रखंड में कुल 11,070 डोज वैक्सीन दी गयी। जिसमें 45 साल से अधिक उम्र के 7069 ग्रामीण को पहली डोज व 2062 ग्रामीण को दूसरी डोज की वैक्सीन दी गयी। इसी तरह 18 साल से अधिक उम्र के 910 युवाओं को ही कोरोनारोधी टीकाकरण हो पाया है। वहीं 527 स्वास्थ्यकर्मियों व फ्रंटलाइन वर्कर्स को पहली डोज व 502 स्वास्थ्यकर्मियों व फ्रंटलाइन वर्कर्स को दूसरी डोज की वैक्सीन दी गई है। इसका प्रमुख कारण यह है कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में जिला स्वास्थ्य विभाग की ओर से आबादी के अनुरूप वैक्सीन की आपूर्ति ही नहीं हो पा रही है। चिकित्सा प्रभारी डॉ नवाब ने बताया कि कसमार प्रखंड में शुरुआती दौर में जिस तरह पंचायत स्तर पर टीकाकरण की शुरुआत हुई, वो बरकरार रहता तो लक्ष्य ज्यादा पहुंच गया होता। लेकिन बाद में जिला से वैक्सीन की आपूर्ति कम करके सिर्फ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ही टीकाकरण होने लगा। उसमें भी जो लक्ष्य मिला उसमें जिले के अन्य प्रखंड से भी काफी संख्या में लोग टीकाकरण करवाने पहुंचे। इसके कारण कसमार प्रखंड में टीकाकरण के लक्ष्य में बढ़ोतरी नहीं हुई।

पेटरवार में टीकाकरण के प्रति जागरूकता नहीं : पेटरवार शहर से सटा है बुंडू पंचायत। जिसका कुछ भाग शहरी ओर कुछ भाग ग्रामीण क्षेत्र में पड़ता है कुल आबादी 5 हजार 423 है। लेकिन, जिस अनुपात में ग्रामीणों का टीकाकरण होना था वह नहीं हो पाया है। बुंडू पंचायत में तीन बार लगे कोविड वैक्सीनेशन कैंप में मात्र 4 सौ लोगों को ही टीका लगा है। यानी जिस अनुपात में टीकाकरण होना चाहिए था, वह नहीं हो पाया है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा प्रभारी डॉ. अलबेल केरकेट्टा ने बताया कि मास्टर प्लान बनाया जाएगा और पंचायतों में कैंप लगाकर टीकाकरण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि पेटरवार के 94 प्रतिशत हेल्थ वर्करों को पहला डोज ओर 87 प्रतिशत को दूसरा डोज,90 प्रतिशत फ्रंट लाइन वर्करों को पहला डोज ओर 81 प्रतिशत दूसरा डोज दिया जा चुका है। उन्होंने कहा कि 45 प्लस के 98 प्रतिशत पहला डोज ओर 30 प्रतिशत दूसरा डोज दिया जा चुका है जबकि 18 प्लस के 2.97 प्रतिशत लोगो का टीकाकरण किया जा चुका है।

अंगवाली में टीकाकरण अभियान बहुत दूर : फुसरो शहर से सटे व सीसीएल ढोरी प्रक्षेत्र अंतर्गत पेटरवार प्रखंड का अंगवाली उत्तरी पंचायत। कोविड-19 टीकाकरण को लेकर एक ओर सरकार गम्भीर तो हुई तो परंतु दूसरी और वैक्सीन की अनुपलब्धता बताकर आमजनों को परेशानी में भी डाल रही है। इस लिहाजे में इस अभियान को सफल बताना कदापि उचित नहीं होगा। इस पंचायत की कुल आबादी 7850 है, जिसमें 18+उम्र से ऊपर 90 वर्ष तक 4540 एवं जन्म से 17 तक 3310 जनसंख्या है। इसके अनुपात में अब तक सीएचसी पेटरवार द्वारा दो बार पंचायत सचिवालय में शिविर लगाकर 210 ग्रामीणों का ही टीकाकरण किया जा सका है, जो आबादी के अनुपात में मात्र 4.65 फीसदी है। 18+उम्र के सर्वाधिक ग्रामीण टीकाकरण के लिये प्रतीक्षा में हैं।कितनों ने तो ऑनलाइन पंजीयन भी करा रखा है। इधर सीएचसी पेटरवार प्रखंड के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी अल्वेल केरकेट्टा ने बताया कि विभाग पूरी तरह प्रयासरत है कि अभियान को तेज किया जा सके।

संबंधित खबरें