DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

2.30 मीटर कम हुआ पानी गर्मी में हो सकती परेशानी

अगर इस वर्ष बारिश अच्छी नहीं हुई तो सिर्फ किसान ही नहीं बल्कि जलसंसाधन विभाग की भी परेशानी बढ़ सकती है।

आंकड़ों पर गौर करें तो पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष चांडिल डैम में 2.30 मीटर पानी कम है। 29 जुलाई 2017 को डैम का जलस्तर 181.35 मीटर था, जबकि इस वर्ष 29 जुलाई 2018 को चांडिल डैम का जलस्तर मात्र 179.05 मीटर पर है। वहीं, पिछले वर्ष 2017 को डैम का न्यूनतम जलस्तर 176.45 मीटर था जबकि इस वर्ष न्यूनतम जलस्तर 178.45 मीटर पर है। पिछले वर्ष चांडिल डैम का जलस्तर अधिकतम 182.60 मीटर तक पहुंच गया था। जिसके बाद डैम के सभी फाटक को खोलना पड़ा था।

जलस्तर कम रहने से बढेगी परेशानी : चांडिल डैम का जलस्तर पिछले वर्ष की तुलना में अभी 2.30 मीटर कम रहने से आने वाले समय में जलसंसाधन विभाग की परेशानी बढ़ा सकती है। गर्मी में डैम से पेयजलापूर्ति करने में समस्या आ सकती है। डैम का जलस्तर 182 मीटर से ज्यादा नहीं रहने पर हाइड्रल प्रोजेक्ट को चालू करने में दिक्कत आयेगी। सिंचाई के लिए कैनाल में पानी छोड़ने में भी विभाग को सोचना पड़ेगा। इधर, जलसंसाधन विभाग के कार्यपालक अभियंता विनय वर्णवाल ने बताया कि पिछले वर्ष की तुलना में डैम का जलस्तर कम है। उम्मीद है कि आने वाले समय में अच्छी बारिश होगी और डैम का जलस्तर बढ़ेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Water can be hot in summer due to 2.30 meters