DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   झारखंड  ›  आदित्यपुर  ›  आफत की बारिश और वज्रपात के कहर ने ग्रामीण क्षेत्रों में मचाया कोहराम

आदित्यपुरआफत की बारिश और वज्रपात के कहर ने ग्रामीण क्षेत्रों में मचाया कोहराम

हिन्दुस्तान टीम,आदित्यपुरPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 04:10 AM
आफत की बारिश और वज्रपात के कहर ने ग्रामीण क्षेत्रों में मचाया कोहराम

गम्हरिया। संवाददाता

रविवार को आधी रात के बाद आकाशीय बिजली की कड़कड़ाहट और तेज बारिश से क्षेत्र में दहशत का माहौल कायम हो गया। कोरोना की तेज कहर और फिर यास तूफान की बर्बादी के मंजर से घबराये लोग अपने घरों में प्रलय की आशंका से रातभर सहमे रहे। इस आफत की बारिश ने दर्जनों लोगों से उनका आशियाना छीन लिया तो कई घरों में बारिश का पानी घुसने से हजारों की संपत्ति नष्ट हो गयी I कई स्थानों पर वज्रपात और ठनका गिरने की भी सूचना है। इससे रेल परिचालन पर भी व्यापक असर पड़ा है। औद्योगिक क्षेत्र की कई कंपनियों में जल भर गया है। अमलगम स्टील समेत कई कंपनियों से जल निकासी का प्रयास किया जा रहा है।

वज्रपात से किशोर की मौत : इस बीच प्रखंड के टेंटोंपोशी पंचायत के गोहिरा गांव में बीती रात करीब डेढ़ बजे वज्रपात से 15 वर्षीय किशोर आकाश मंडल की मौत हो गयी। आकाश मंडल अपने माता रानी मंडल एवं पिता अमूल्य मंडल के साथ एक ही कमरे में सोया था। भीषण गर्मी के कारण खिड़की खोलकर सोया हुआ था। खिड़की के समीप पलंग पर आकाश मंडल एवं उनकी मां रानी मंडल थे। बिजली कड़कते ही खुले खिड़की से आकाश के माथे पर बज्रपात हो गया। इससे आकाश मंडल की घटनास्थल पर ही मौत हो गयी। माता रानी मंडल बेहोशी हो गयी। सुबह सुबह पिता ने ग्रामीणों को घटना की जानकारी दी। मुखिया फोरमैन सोरेन संकेत काफी संख्या में ग्रामीण घटना स्थल पर पहुंचकर बीडीओ ठाकुर गौरी शंकर शर्मा को मामले की जानकारी दी। प्रखंड कर्मचारी शंकर सतपति ने घटना स्थल पर पहुंचकर मामले की जांच की एवं सरायकेला थाना पुलिस के सहयोग से लाश को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल पहुंचाया गया। इस अवसर पर मुखिया फोरमैन सोरेन, ग्राम प्रधान विश्वनाथ, पंचायत सचिव सलिल श्यामल, अभिषेक आचार्य, बुद्धेश्वर महतो, शरसेद अली समेत काफी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

भालोटिया कंपनी की बाउंड्री ढही : रविवार आधी रात से अनवरत मूसलाधार बारिश से गम्हरिया के मोती नगर स्थित भालोटिया इंजीनियरिंग एंड बॉडी बिल्डिंग नामक कंपनी की करीब 50 फिट से अधिक दीवार ढह गयी। इसके मलबे से वार्ड-4 के मोती नगर रोड-1 जाम हो गया। हालांकि, इस घटना से कोई हताहत नहीं हुआ। दीवार ध्वस्त होने से इस क्षेत्र की सबसे घनी आबादी मोती नगर के कई घरों में पानी घुस गया। बिजली तार क्षतिग्रस्त हो गये। स्थानीय पूर्व पार्षद सोनू कुमार को सूचना मिलते ही सुबह उक्त स्थल पर पहुंचकर मलबे को हटाने में मदद की। इसमें नगर निगम एवं कंपनी के मजदूरों ने संयुक्त रूप से मिलकर मलबे को हटाया। कई घंटे बाद सड़क पर आवागमन शुरू हो पाया।

रेल परिचालन पर असर

मूसलाधार बारिश का असर रेल परिचालन पर भी पड़ा। कांड्रा-चांडिल रेल खंड पर कुनकी और कांड्रा स्टेशन के बीच स्थित रेलवे पुल के बगल की मिट्टी पानी के तेज बहाव में कट गयी। उससे अप लाइन पर गाड़ियों का परिचालन कुछ देर तक ठप हो गया। पूरी से चलकर नई दिल्ली को जाने वाली पुरुषोत्तम एक्सप्रेस लगभग डेढ़ घंटे तक कांड्रा रेलवे स्टेशन पर खड़ी रही। बाद में ट्रेन को डाउन लाइन से पार कराया गया। तत्काल रेलवे के अभियांत्रिकी विभाग की टीम आदित्यपुर से आई और मौके पर जाकर क्षति की भरपाई करने में जुट गयी I

मुक्तिधाम को क्षति, आज होना था लोकार्पण : बारिश के बाद पहाड़ी नदियों में आये जल सैलाब से कांड्रा के मुक्तिधाम को भारी क्षति हुई हैI मुक्तिधाम संचालन समिति के अध्यक्ष डॉ योगेंद्र के मुताबिक लगभग 5 लाख से अधिक के निर्माण कार्य पर पानी फिर गया। लगभग 8 फुट ऊंचा बना 600 वर्ग फीट का कंक्रीट चबूतरा तेज बहाव में बह गया। उस पर बना शव शैया और ऊपर बना शेड भी तेज बहाव में बह गया। पास ही स्थित माता काली के निर्माणाधीन मंदिर को भी काफी क्षति पहुंची। उसके अलावा मुक्तिधाम में कई पेड़ों के नीचे कंक्रीट चबूतरे बनाये गये थे तथा पौधारोपण का भी कार्य किया गया था। पानी का बहाव इतना तेज था कि पूरा मुक्ति धाम आधा डूब गया। सोमवार को भाजपा नेता गणेश महाली के हाथों इसका लोकार्पण होना था, जिसे लेकर कई दिनों से तैयारियां भी की जा रही थी। बावजूद इसके भाजपा नेता गणेश महाली मुक्तिधाम पहुंचे और सांकेतिक रूप से लोकार्पण किया। उन्होंने हुई क्षति के मद्देनजर अपनी ओर से हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। मुक्तिधाम संचालन समिति के अध्यक्ष डॉ योगेंद्र की आंखों में आंसू थे, क्योंकि मुक्तिधाम के जीर्णोद्धार में वे कई वर्षों से तन मन धन से जुड़े हुए थे। परिणाम भी सामने था और पूरे मुक्तिधाम का कायाकल्प हो गया था। शेड निर्माण से लेकर बिजली, पानी, बैठक गृह इत्यादि सबकुछ का निर्माण विगत चंद महीनों में पूर्ण किया गया था।

टोल प्लाजा के जले दर्जनों कंप्यूटर : कांड्रा और गिद्दीबेड़ा टोल प्लाजा के जनरेटर सहित कई कंप्यूटर पूरी तरह जल गये। इससे टोल प्लाजा को लाखों का नुकसान हुआ। टोल प्लाजा के मैनेजर संदीप कुमार ने बताया कि कंप्यूटर के जलने से तत्काल परेशानी उत्पन्न हो गयी है। सरायकेला विद्युत विभाग के कनीय अभियंता राजेश मुर्मू ने बताया कि बिजली कड़कने से कई इंसुलेटर और डिस्क खराब हो गये, जिससे विद्युत आपूर्ति बाधित है। जल्द से जल्द विद्युत चालू करने की कोशिश की जा रही है।

ग्रामीण क्षेत्र का हुआ बुरा हाल : ग्रामीण क्षेत्र से भी तबाही की कई तस्वीरें सामने आई हैं। दर्जनों कच्चे मकान बारिश की भेंट चढ़ गये और लोगों का आशियाना छिन गया। बारिश की तबाही से कांड्रा, हुदू, रापचा, बुरुडीह, डुमरा पंचायतों में काफी घरों को नुकसान पहुंचा है। कई घर पूरी तरह से टूट गये और दर्जनों घरों में पानी घुस गया है।

रात में ही मूसलाधार बारिश से भयभीत होकर बांधा जूड़िया डैम के समीप स्थित हरिजनों की बस्ती में तो कोहराम मच गया। डैम के बढ़ते जलस्तर को देखकर लोगों ने आधी रात अपने घर-बार छोड़ रेलवे स्टेशन की शरण ली I

कई गांवों का संपर्क भंग : डुमरा और हुदू पंचायत को कांड्रा से जोड़ने वाली लाहकोठी स्थित पुलिया भी पानी में पूरी तरह डूब गयी, जिससे दोनों पंचायतों का प्रखंड मुख्यालय से संपर्क घंटों कटा रहा। इधर, कांड्रा थाना परिसर तालाब के रूप में बदल गया। वहां भी बारिश का काफी पानी जमा हो गया।

पहली बार देखा तबाही का मंजर : स्थानीय लोगों ने दावा किया कि रविवार रात आई बारिश उनके जीवनकाल की पहली बारिश है, जब रात भर इतना खौफनाक मंजर आंखों के सामने घूमता रहा। लगभग 5 घंटे तक आसमानी बिजली की कड़कती रोशनी और लगातार हो रही मूसलाधार बारिश से लोगों ने ऐसा महसूस किया, जैसे आज सब कुछ नष्ट हो जायेगा। रात से ही पूरे क्षेत्र में बिजली गुल है। बारिश से बिजली विभाग को भी काफी क्षति हुई है I विद्युत आपूर्ति व्यवस्था पुनः बहाल करने के लिए विभाग की रिपेयरिंग गैंग लगी हुई है।

पुलिस ने कराया भोजन और बांटे राशन : पानी के तेज बहाव के कारण डैम के किनारे बसी बस्ती के लोगों ने जहां रात स्टेशन पर गुजारी, वहीं दिन में सभी को पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर कांड्रा पुलिस ने भोजन कराया और राशन भी बांटे। थाना प्रभारी राजन कुमार ने सभी प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया और जरूरतमंदों के बीच राहत सामग्री वितरित की।

संबंधित खबरें