DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनआईटी में आररईआईएसटी-2019 पर छह दिवसीय कार्यशाला शुरू

एनआइटी जमशेदपुर में मंगलवार को टीईक्यूआईपी के तात्वावधान में रिजर्व एनबीसी, भुकंप भारतीय मानक व लंबे भवन पर 6 दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसका विधिवत उद्घाटन संस्थान के निदेशक प्रो. करूणेश कुमार शुक्ल व प्रो. तुषार दत्ता ने किया।

कार्यक्रम के दौरान संयोजक डा. विरेन्द्र कुमार, डा. केके शर्मा, डा. आरपी सिंह, प्रो. आरपी सिंह आदि उपस्थित थे। इस कार्यशाला मे आठ ऑब्जेक्टिव को बताया गया। जिसमें एनबीसी-2016 और एकीकृत दृष्टिकोण का अवलोकन, आई एस का प्रभाव 1893 (भाग-1) 2016 गणितीय विश्लेषण और डिजाईन, आईएस 1893 (भाग-1) 2016 और आईएस 13920 2016 के अनुसार डिजाईन और विवरण, आईएस 1893 (भाग-1) 2016 पर जियो टेक्निकल पहलू, भूकंपीय मूल्याँकन और इमारतो की रेट्रोफिटिंग लंबे कंक्रीट भवनो की संरचनात्मक सुविधा के लिए मानदंड पर चर्चा (16700-2017), आग और जीवन सुरक्षा तथा मिश्रित अथवा कम्पोजिट स्ट्रक्चरल डिजाईन, जिसमें संरचनाओ की आपता प्रतिरोधी डिजाईन शामिल है, पर चर्चा की जाएगी। सिविल इंजीनियरिंग विभाग शोध करनेवाले छात्रों को भवन निर्माण विभाग के कंसल्टेंट एजेंसियों तथा भवन बनानेवाली कंपनियों को इसपर सहायता प्रदान करना है। कार्यशाला में उदाहरण और मामले के अध्ययन के साथ 90 मिनट की प्रशिक्षण अवधि में से प्रत्येक के साथ की योजना बनाई गई है। कार्यक्रम संयोजक एकेएल श्रीवास्तव, डा. बीरेन्द्र कुमार, डा. एस माधुरी, डॉ के एस धर्म, डा. आर पी एस सिंह, प्रो. एके आदि उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Six day workshop on RRIIST-2013 in NIT