DA Image
Sunday, November 28, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड आदित्यपुरअच्छी फसल के लिए किसानों ने अपने पूर्वजों का किया अराधना

अच्छी फसल के लिए किसानों ने अपने पूर्वजों का किया अराधना

हिन्दुस्तान टीम,आदित्यपुरNewswrap
Mon, 31 May 2021 04:00 AM
चांडिल। रोहिन पर्व में बिहिन पुनहा कर अच्छी फसलों के लिए किसानों ने अपने...
1/ 3चांडिल। रोहिन पर्व में बिहिन पुनहा कर अच्छी फसलों के लिए किसानों ने अपने...
चांडिल। रोहिन पर्व में बिहिन पुनहा कर अच्छी फसलों के लिए किसानों ने अपने...
2/ 3चांडिल। रोहिन पर्व में बिहिन पुनहा कर अच्छी फसलों के लिए किसानों ने अपने...
चांडिल। रोहिन पर्व में बिहिन पुनहा कर अच्छी फसलों के लिए किसानों ने अपने...
3/ 3चांडिल। रोहिन पर्व में बिहिन पुनहा कर अच्छी फसलों के लिए किसानों ने अपने...

चांडिल। रोहिन पर्व में बिहिन पुनहा कर अच्छी फसलों के लिए किसानों ने अपने पूर्वजों का याद किया। जेठ महीने के 13वें दिन से सात दिन तक रोहिन पर्व मनाया जाता है। रोहिन पर्व पर किसानों ने खेतों में बिहिन (बीज) बोने का शुभारंभ किया तथा उत्साह मनाया।

रोहिन पर्व पर किसानों ने सात मुट्ठी धान-बिहिन को निकालकर उसे नई टोकरी में रखा तथा टोकरी को गमछा या धोती से ढंक कर मौन धारण कर उसे खेत में ले गये। खेत के एक कोने में धरती माता, सूरज एवं पुरखों की आराधना एवं पूजा-अर्चना कर बिहिन बोने का शुभारंभ किया। किसान के लौटकर आने के वक्त द्वार पर घर की महिलाओं ने पैर धुलाकर उनका स्वागत किया। इस मौके पर कृषिकर्म के सहायक पशुधन का भी वंदन एवं पूजा-अर्चना की गयी। इसके अलावा अनाज मापने के उपकरण सेरा, पोइला, छटाक, टोंकि आदि को भी सिंदूर का टीका लगाकर उसकी पूजा-अर्चना की गयी।

धार्मिक मान्यता :

आदिवासी कृषक समुदाय प्रकृति के विभिन्न वास्तविक रुपों को ईश्वर मानते हुए एवं अपने पुरखों के कृतज्ञता के प्रति आभार प्रकट करने के लिए अराधना करते हैं। इसलिए बारिश का महीना शुरू होने के पहले प्रकृति महाशक्ति एवं पूर्वजों को अच्छी फसल होने की कामना करते हुए खेतों में बीजारोपण की शुरुआत करते हैं।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें