फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News जम्मू और कश्मीरएक-एक यात्री की जान लेना चाहते थे आतंकी, रियासी हमले के पीड़ितों ने बताई कहानी

एक-एक यात्री की जान लेना चाहते थे आतंकी, रियासी हमले के पीड़ितों ने बताई कहानी

जम्मू-कश्मीर के रियासी में बस पर हुए आतंकी हमले के पीड़ितों ने बताया कि आतंकी एक-एक यात्री की जान लेना चाहते थे। इसीलिए बस के खाईं में गिरने के बाद भी उन्होंने फायरिंग जारी रखी।

एक-एक यात्री की जान लेना चाहते थे आतंकी, रियासी हमले के पीड़ितों ने बताई कहानी
pti06-10-2024-000075b-0 jpg
Ankit Ojhaहिन्दुस्तान टाइम्स,जम्मूMon, 10 Jun 2024 03:28 PM
ऐप पर पढ़ें

जम्मू-कश्मीर के रियासी में हिंदू श्रद्धालुओं की बस पर हुए आतंकी हमले को लेकर कई बातें सामने आ रही हैं। हमले के एक पीड़ित ने बताया कि आतंकियों की गोलीबारी के बाद बस गहरी खाईं में गिर गई। इसके बावजूद आतंकी गोलीबारी करते रहे ताकि कोई जिंदा ना बचे। इस भयानक हमले की कहानी बयां करते हुए उन्होंने कहा कि आतंकी चाहते थे कि एक-एक श्रद्धालु वहीं दम तोड़ दे। यह बस शिव खोड़ी से माता वैष्णो देवी के लिए जा रही थी। 

इस आतंकी हमले में 9 लोगो की मौत हो गई है वहीं 33 लोग घायल हुए हैं। प्रशासन के मुताबिक आतंकियों ने बस पर एक तरफ से ही नहीं बल्कि कम से कम तीन तरफ से हमला किया। इसके बाद ड्राइवर को एक गोली लग गई और बस खाईं में जा गिरी। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक एक पीड़ित ने बताया कि करीब 20 मिनट तक लगातार गोलियां चलती रहीं।

उन्होंने कहा, माता वैष्णो देवी में दर्शन के बाद हम शिव खोड़ी गए ते। वहां से लौटते वक्त 4-5 किलोमीटर की दूरी पर ही बस पर गोलीबारी होने लगी। हमारी बस खाई में गिर गई तब भी गोलीबारी बंद नहीं हुई। पहले ड्राइवर को गोली लगी और इसके बाद कुछ और लोगों को भी गोलियां लगीं। एक अन्य यात्री ने कहा, मुझे लगता है कि वहां पर दो या तीन आतंकी थे। मेरे बेटे ने देखा कि एक शख्स बस के पीछे से भी गोली चला रहा है। 

वहीं एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि कम से कम 6 या सात लोगों ने बस पर हमला किया था। सड़क की सभी तरफ से आतंकी गोली चला रहे थे। बस जब खाईं में गिर गई और तब भी आतंकी गोली चलाते रहे तो बहुत सारे लोग चुपचाल लेट गए ताकि आतंकियों को लगे कि उनकी मौत हो गई है। बता दें कि घटनास्थल पर पुलिस, सेना और सीआरपीएफ ने एक अस्थायी  ऑपरेशन मुख्यालय बनाया है। वहीं हमलावरों की खोज चल रही है। राजौरी जिले में भी सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है और वे सख्त निगरानी कर रहे हैं। 

रियासी के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मोहित शर्मा ने कहा कि शिव खोड़ी मंदिर के आसपास भी लगातार गश्त चलती रहती थी। उन्होंने कहा कि ग्राम रक्षा दलों के साथ भी फायरिंग का अभ्यास शुरू कर दिया गया है और उन्हें भी अलर्ट पर रखा जाएगा। जानकारी के मुताबिक मृतकों में तीन महिलाएं शामिल हैं।