फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News जम्मू और कश्मीरबारामूला में उमर अब्दुल्ला की करारी हार, कौन है पटखनी देने वाला इंजीनियर राशिद शेख? टेरर फंडिग में काट रहा सजा

बारामूला में उमर अब्दुल्ला की करारी हार, कौन है पटखनी देने वाला इंजीनियर राशिद शेख? टेरर फंडिग में काट रहा सजा

Omar Abdullah Lost Baramulla Election: उमर अब्दुल्ला चुनाव हार गए हैं। उन्हें पटखनी देने वाला निर्दलीय उम्मीदवार इंजीनियर राशिद शेख है, जो टेरर फंडिंग केस में तिहाड़ जेल में बंद है।

बारामूला में उमर अब्दुल्ला की करारी हार, कौन है पटखनी देने वाला इंजीनियर राशिद शेख? टेरर फंडिग में काट रहा सजा
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,बारामूलाTue, 04 Jun 2024 04:45 PM
ऐप पर पढ़ें

Omar Abdullah Lost Baramulla Election: लोकसभा चुनाव 2024 रिजल्ट काफी चौंकाने वाले हैं। यूपी समेत कई राज्यों में भाजपा गठबंधन वाली एनडीए को काफी झटके मिले हैं। जम्मू कश्मीर में पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती अपनी सीट पर चुनाव हार गए हैं। उमर को बारामूला में हार तो मुफ्ती को अनंतनाग में हार मिली है। हालांकि चुनाव आयोग की तरफ से आधिकारिक घोषणा अभी बाकी है। उमर अब्दुल्ला को पटखनी देने वाला इंजीनियर राशिद शेख है। शेख ने निर्दलीय चुनाव लड़ा और फिलहाल टेरर फंडिंग केस में तिहाड़ जेल में बंद हैं।

चुनाव आयोग के अनुसार, जम्मू-कश्मीर राज्य के दो पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती की अपनी-अपनी लोकसभा सीटों पर करारी हार तय है। खबर लिखे जाने तक बारामूला में अब्दुल्ला दो लाख वोटों से पीछे हैं तो महबूबा मुफ्ती अनंतनाग-राजौरी सीट से ढाई लाख वोटों से पीछे हैं। बारामूला लोकसभा सीट पर तीसरे नंबर पर हाई प्रोफाइल नेता साजिद लोन हैं, वो जम्मू कश्मीर पीपल कॉन्फ्रेंस पार्टी से उम्मीदवार हैं। उमर ने मीडिया चैनलों से बातचीत में अपनी हार स्वीकार कर ली है।

महबूबा मुफ्ती को चुनाव में हराने वाले नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता मियां अल्ताफ अहमद हैं। अहमद और मुफ्ती के बीच वोटों का अंतर करीब ढाई लाख है।

कौन है अब्दुल राशिद शेख?
अब्दुल रशीद उर्फ ​​इंजीनियर रशीद फिलहाल टेरर फंडिंग मामले में तिहाड़ जेल में बंद है। दो बार के विधायक और अवामी इत्तेहाद पार्टी के प्रमुख राशिद बारामूला से मैदान में उतरने वाले 22 उम्मीदवारों में से एक हैं। राशिद को एनआईए ने 2019 में टेरर फंडिंग केस में गिरफ्तार किया था। उनके दो बेटे अबरार रशीद और असरार रशीद ने उनकी तरफ से चुनाव प्रचार किया था। राशिद ने 2008 और 2014 में लंगेट विधानसभा चुनाव से जीत हासिल की थी। हालांकि 2019 के संसदीय चुनाव में हार का सामना किया था।