DA Image
हिंदी न्यूज़ › जम्मू और कश्मीर › कश्मीर: अब तक 83... अब रडार पर हैं ये टॉप-10 आतंकी, एमफिल स्टूडेंट जुबैर वानी का भी नाम
जम्मू और कश्मीर

कश्मीर: अब तक 83... अब रडार पर हैं ये टॉप-10 आतंकी, एमफिल स्टूडेंट जुबैर वानी का भी नाम

लाइव हिन्दुस्तान,श्रीनगर।Published By: Himanshu Jha
Tue, 03 Aug 2021 03:24 PM
कश्मीर: अब तक 83... अब रडार पर हैं ये टॉप-10 आतंकी, एमफिल स्टूडेंट जुबैर वानी का भी नाम

कश्मीर में 83 आतंकवादियों के मारे जाने के बाद, जिनमें ज्यादातर स्थानीय थे, पुलिस ने 10 शीर्ष आतंकवादियों के नाम जारी किए हैं। ये सभी वर्तमान में कश्मीर में सक्रिय हैं और अब पुलिस के निशाने पर हैं।

आपको बता दें कि पिछले कुछ वर्षों से पुलिस और सेना दोनों ने ही कश्मीर में कई अभियान चलाए हैं। उन्हें निशाना बनाने या खत्म करने के उद्देश्य से कश्मीर के विभिन्न हिस्सों में सक्रिय शीर्ष आतंकवादियों और कमांडरों के नाम और कभी-कभी तस्वीरें जारी की गई है। कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कहा कि टॉप-10 आतंकवादियों में घाटी में सक्रिय पुराने और नए दोनों शामिल हैं।

कश्मीर के आईजीपी विजय कुमार ने ट्वीट कर कहा, "टॉप टेन लक्ष्य: पुराने आतंकवादी- सलीम पर्रे, यूसुफ कांट्रो, अब्बास शेख, रेयाज शेटगुंड, फारूक नाली, जुबैर वानी और अशरफ मोलवी। नए आतंकवादी- साकिब मंजूर, उमर मुस्ताक खांडे और वकील शाह।" 

इस साल जनवरी से अब तक विभिन्न मुठभेड़ों में सुरक्षा बलों ने कश्मीर में सक्रिय विभिन्न आतंकवादी समूहों के एक दर्जन शीर्ष कमांडरों सहित 84 आतंकवादियों को मार गिराया है। जिन आतंकवादियों के नाम पुलिस ने जारी किए हैं उनमें कुछ पुराने कमांडर भी हैं जो कई अभियानों से बचकर भागने में सफल रहे हैं और अपने संगठन में भर्ती में मदद की है। शीर्ष पुलिस अधिकारी द्वारा नामित सभी स्थानीय आतंकवादी हैं, जो घाटी के विभिन्न हिस्सों से ताल्लुक रखते हैं।

सलीम पर्रे जिसका नाम सूची में सबसे ऊपर है वह हाजिन कस्बे के रहने वाले हैं और पिछले चार साल से सक्रिय है। वह हाजिन इलाके और उसके आस-पास के इलाकों में कई मुठभेड़ों से बच गया। पर्रे 2017 में लश्कर में शामिल हुआ था। सलीम को छोड़कर हाजिन में सक्रिय लश्कर-ए-तैयबा के लगभग पूरे समूह का सफाया कर दिया गया। पुलिस ने उस पर इलाके में कई नागरिकों की हत्या का आरोप लगाया है। पर्रे ने विदेशी आतंकवादियों को हाजिन में ठिकाना बनाने में भी मदद की।

युसूफ कांतरू उर्फ ​​इस्साह बडगाम का रहने वाला है और लश्कर का ऑपरेशनल कमांडर के तौर पर काम कर रहा है। पुलिस का कहना है कि वह बडगाम और श्रीनगर जिलों में कई हमलों में शामिल रहा है। उसे ए +++ श्रेणी का आतंकवादी करार दिया गया है। वह लश्कर के लिए मुख्य भर्तीकर्ता के रूप में काम किया है। वह उन कुछ स्थानीय आतंकवादियों में शामिल है जिन्हें घाटी में लश्कर ने सबसे अधिक जिम्मेदारी दी है।

अब्बास शेख: कुछ महीने पहले पुलिस को श्रीनगर में शेख की मौजूदगी के बारे में अलर्ट मिला, हालांकि, वह गिरफ्तारी से बच गया। पुलिस ने कहा कि फिलहाल वह लश्कर और उसकी शाखा द रेसिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ) के साथ काम कर रहा है। इससे पहले वह हिजबुल मुजाहिदीन का हिस्सा था। कुलगाम के रामपोरा गांव का रहने वाले अब्बास के 2015 के बाद से सेना ट्रैक करने में असमर्थ है। वह A++ का आतंकवादी कमांडर है।

फारूक भट उर्फ ​​फारूक नाली कुलगाम जिले से हिजबुल मुजाहिदीन का शीर्ष कमांडर है। पुलिस के अनुसार वह ए++ श्रेणी का आतंकवादी है और पिछले साल नवीद बाबू की गिरफ्तारी के बाद उसे हिज़्ब के कमांडर के रूप में नामित किया गया था। वह दक्षिण कश्मीर के पुलवामा और कुलगाम जिलों में सक्रिय है।

मोहम्मद अशरफ खान या अशरफ मोलवी दक्षिण कश्मीर के कोकरनाग इलाके से हिजबुल मुजाहिदीन का एक और शीर्ष कमांडर है। कुछ अधिकारियों का मानना ​​है कि वह वर्तमान में हिज़्ब के ऑपरेशनल कमांडर के रूप में काम कर रहा है और दक्षिण कश्मीर में सक्रिय है। 50 वर्षीय मोलवी 2013 से सक्रिय है और कट्टर विचारधारा वाला एक आतंकवादी है और कश्मीर में सबसे वरिष्ठ सक्रिय आतंकवादियों में से एक है।

31 वर्षीय जुबैर वानी दक्षिण कश्मीर का एक और हिज्ब कमांडर है, जिसका नाम ताजा पुलिस लक्ष्य सूची में रखा गया है। पुलिस के मुताबिक वानी एमफिल का छात्र है जो पिछले तीन साल से सक्रिय है। उसे एजेंसियों द्वारा ए ++ श्रेणी के आतंकवादी के रूप में करार दिया गया है।

संबंधित खबरें