ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशचीन में प्रदर्शन: जनता की नाराजगी पर पूछा सवाल तो चुप हुई शी सरकार, वीडियो वायरल

चीन में प्रदर्शन: जनता की नाराजगी पर पूछा सवाल तो चुप हुई शी सरकार, वीडियो वायरल

China News: चीन सरकार का मानना है कि कोविड पाबंदियों के चलते लोगों में नाराजगी नहीं है। हाल ही में जब विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान से सवाल पूछा गया, तो उन्होंने लंबी चुप्पी साध ली।

चीन में प्रदर्शन: जनता की नाराजगी पर पूछा सवाल तो चुप हुई शी सरकार, वीडियो वायरल
Nisarg Dixitलाइव हिन्दुस्तान,बीजिंगWed, 30 Nov 2022 09:22 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

कोरोनावायरस पाबंदियों के चलते चीन के कई शहरों में प्रदर्शन जारी हैं। हालांकि, सरकार जनता की नाराजगी से इनकार कर रही है। साथ ही विदेश मंत्रालय ने साफ कर दिया है कि चीन सरकार 'डायनैमिक जीरो कोविड पॉलिसी' का पालन कर रही है। राजधानी बीजिंग और शंघाई समेत कई बड़े शहरों में चीन की जनता सड़कों पर उतर आई है। प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से सत्ता छोड़ने की भी मांग कर रहे हैं।

साध ली चुप्पी
चीन सरकार का मानना है कि कोविड पाबंदियों के चलते लोगों में नाराजगी नहीं है। हाल ही में जब विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान से सवाल पूछा गया, तो उन्होंने लंबी चुप्पी साध ली। हालांकि, उन्होंने कुछ समय बाद सवाल का जवाब दिया, लेकिन तब तक उनकी चुप्पी ने और सवाल खड़े कर दिए। विदेश मंत्री की इस प्रतिक्रिया का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

क्या था सवाल?
पत्रकार ने सवाल किया, 'हाल के दिनों में जीरो कोविड पॉलिसी पर लोगों की निराशा और गुस्से को देखते हुए, क्या चीन इसे खत्म करने के बारे में सोच रहा है और अगर सोच रहा है, तो कब?' इस सवाल के बाद लंबे समय तक प्रवक्ता कागजों को खंगालते हुए नजर आए। इसके बाद उन्होंने दोबारा सवाल पूछने के लिए कहा।

ढील के संकेत
भाषा के अनुसार, जिनपिंग की सख्त जीरो कोविड नीति के खिलाफ अभूतपूर्व विरोध प्रदर्शन के बीच चीन ने मंगलवार को कहा कि वह कोरोना वायरस लॉकडाउन के प्रभाव को कम करने के लिए कदम उठाएगा। शंघाई और बीजिंग सहित चीन के कई शहरों में पिछले कुछ दिनों में लॉकडाउन के कड़े नियमों के खिलाफ प्रदर्शन गंभीर होने के साथ शी के पद छोड़ने की मांग की जाने लगी। प्रदर्शन बढ़ने के साथ पुलिस ने कार्रवाई तेज कर दी और अलग-अलग जगहों पर प्रदर्शनकारियों के घर भी पहुंची।