DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   विदेश  ›  Covid-19 केस ऐसे ही बढ़ते रहे तो वायरस को नियंत्रित करने में कई साल लगेंगे, PAHO ने चेताया
विदेश

Covid-19 केस ऐसे ही बढ़ते रहे तो वायरस को नियंत्रित करने में कई साल लगेंगे, PAHO ने चेताया

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Nishant Nandan
Thu, 10 Jun 2021 01:07 AM
Covid-19 केस ऐसे ही बढ़ते रहे तो वायरस को नियंत्रित करने में कई साल लगेंगे, PAHO ने चेताया

द पैन अमेरिकन हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (PAHO) ने बुधवार को चेतावनी दी है कि जिस दर से Covid-19 महामारी अभी फैल रही है, अगर ऐसा ही चलता रहा तो अमेरिकी देशों में इस वायरस को नियंत्रित करने में बरसों लग जाएंगे। बता दें कि PAHO, वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) का एक क्षेत्रीय कार्यालय है। साप्ताहिक प्रेस ब्रीफिंग के दौरान PAHO की डायरेक्टर Carissa Etienne ने कहा कि पिछले सप्ताह क्षेत्र में 1.2 मिलियन नये कोरोना केस और इससे करीब 34,000 मौतें दर्ज की गई हैं। उन्होंने यह भी कहा कि यूनाइटेड स्टेट, ब्राजिल, मैक्सिको और पेरू में मृत्यु दर काफी ज्यादा है। 

Carissa Etienne ने कहा कि अगर ऐसे ही चलता रहा तो स्वास्थ्य, सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र में असमानताएं काफी व्यापक स्तर पर पहुंच जाएंगी और इस वायरस को नियंत्रित करने में कई साल लग जाएंगे। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक यूएस में मृत्यु दर सबसे ज्यादा है। इसके बाद ब्राजील और भारत हैं। हालांकि, यूएस ने तेजी से वैक्सीनेशन ड्राइव चलाकर कंट्रोल किया है। जबकि ब्राजील में सैकड़ों मौतें हर रोज इस वायरस की वजह से हो रही हैं। 

Carissa Etienne ने यूएस, कनाडा और स्पेन को वैक्सीन डोनेट करने और कोविड-19 जैसे घातक संक्रमण से लड़ने के लिए फंड देने को लेकर शुक्रिया अदा भी किया है। हालांकि, उन्होंने कहा कि 'लेकिन अभी कहीं ज्यादा किये जाने की जरुरत है। हमें विश्वास है कि दूसरे देश भी इन देशों का अनुसरण करेंगे और जिस सपोर्ट की हमें जरुरत है वहां वो सपोर्ट करेंगे। वैक्सीन के डोनेट किये जाने की जल्द से जल्द जरुरत है। 

लैटिन अमेरिका और कैरिबियन की कुल आबादी का 10 फीसदी हिस्सा ही अभी पूरी तरह वैक्सीनेटेड हो पाया है। जाहिर है वैक्सीन की जरुरत अभी काफी ज्यादा है। कोविड की नई वेभ काफी नुकसान पहुंचा सकती है इससे कम और मध्यमवर्गीय आय वाले देशों के लिए मुश्किल पैदा हो सकती है।' PAHO ने अपील की है कि अभी किसी भी तरह की भीड़भाड़ वाले आयोजन से बचा जाए ताकि इस महामारी को फैलने से रोका जा सके। 
 

संबंधित खबरें