DA Image
Monday, November 29, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशड्रग्स रखने के आरोप में मलेशिया में इस सिंगल मदर को सुनाई गई मौत की सजा

ड्रग्स रखने के आरोप में मलेशिया में इस सिंगल मदर को सुनाई गई मौत की सजा

लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीGaurav
Wed, 20 Oct 2021 05:49 PM
ड्रग्स रखने के आरोप में मलेशिया में इस सिंगल मदर को सुनाई गई मौत की सजा

कई देशों में ड्रग्स के खिलाफ काफी कड़े नियम बनाए गए हैं, मलेशिया इन्हीं में से एक है। हाल ही में यहां से एक ऐसा मामला सामने आया है जब एक ऐसी महिला को मौत की सजा सुनाई गई है जिसके पास ड्रग्स पाया गया और यह भी पाया गया कि महिला ड्रग्स बेचती है। यह मामला तीन साल से अधिक चला और पिछले हफ्ते उसे सजा सुनाई गई है।

दरअसल, यह घटना मलेशिया के तवाउ शहर की है। 'द इंडिपेंडेंट' की एक रिपोर्ट के मुताबिक, यहां के हाई कोर्ट में बीते 15 अक्टूबर को न्यायाधीश अलवी अब्दुल वहाब ने हेरुन जलमानी को यह सजा सुनाई है। यह महिला नौ बच्चों की सिंगल मदर है। रिपोर्ट के मुताबिक जनवरी 2018 में महिला को ड्रग्स के साथ पकड़ा गया था, लेकिन उसे सजा हाल ही में सुनाई गई है।

मछुआरे के रूप में काम करने वाली महिला को जब मौत की सजा सुनाई गई तो वह फफक कर रो पड़ी, इसका एक वीडियो भी वायरल हुआ है। हालांकि वह महिला रोते-रोते अदालत में ही गिर पड़ी इसके बाद महिलाओं के अधिकारों और मौत की सजा पर तीखी बहस भी मलेशिया में छिड़ गई है। वीडियो में एक हथकड़ी में जकड़ी यह महिला कोर्टरूम की तरफ जाते हुए दिख रही है। 

रिपोर्ट में इस बात का जिक्र है कि आलोचकों का कहना है कि देश की हाशिए पर रहने वाली, विशेष रूप से कमजोर महिलाओं को यह सजा काफी भारी पड़ जाती है। मलेशिया में इस तरह के मामलों में मौत की सजा पाने वाली अधिकांश महिलाओं में इसे रोजगार की तरह क्यों लिया जाता है, यह भी चर्चा का विषय होना चाहिए। यह भी आरोप लगाए गए कि ऐसी महिलाओं की कमजोर सामाजिक-आर्थिक वास्तविकताओं को ध्यान में रखने में विफलता हुई है।

बता दें कि मलेशिया में अगर किसी के पास ड्रग्स मिलता है, तो उसपर जुर्माना लगने के साथ ही जेल हो सकती है या फिर निर्वासित किया जा सकता है। इतना ही नहीं ड्रग्स बेचने वालों को मौत की सजा सुनाई जाती है। मलेशियाई कानून के तहत 50 ग्राम से अधिक मेथेम्फेटामाइन रखने वालों को अनिवार्य मौत की सजा का सामना करना पड़ता है। 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें