ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशईरानी राष्ट्रपति रईसी की मौत पर उनके ही देश में कुछ लोग क्यों मना रहे जश्न? भारत में एक दिन का शोक

ईरानी राष्ट्रपति रईसी की मौत पर उनके ही देश में कुछ लोग क्यों मना रहे जश्न? भारत में एक दिन का शोक

Iran President Ebrahim Raisi Death: गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि दिवंगत गणमान्य व्यक्तियों के सम्मान में भारत सरकार ने निर्णय लिया है कि 21 मई को पूरे भारत में एक दिन का राजकीय शोक रहेगा।’

ईरानी राष्ट्रपति रईसी की मौत पर उनके ही देश में कुछ लोग क्यों मना रहे जश्न? भारत में एक दिन का शोक
Pramod Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 20 May 2024 09:03 PM
ऐप पर पढ़ें

ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी और विदेश मंत्री हुसैन अमीर-अब्दुल्लाहियन के साथ-साथ कुछ अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की कल एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई।  ईरानी अधिकारियों ने रात भर की खोज के बाद सोमवार को लापता हेलिकॉप्टर का मलबा पहाड़ी इलाके में मिलने की पुष्टि की। ईरान के आठवें राष्ट्रपति रईसी और उनका दल शुक्रवार को अजरबैजान की सीमा पर एक बांध का उद्घाटन करने के बाद ईरान के उत्तर-पश्चिमी प्रांत ईस्ट अजरबैजान के खोडा अफ़रीन क्षेत्र से लौट रहे थे, तो उनका हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। 

रईसी और अब्दुल्लाहियन की मौत की आधिकारिक पुष्टि के बाद सोमवार सुबह ईरानी कैबिनेट की आपातकालीन बैठक हुई। ईरान के आध्यात्मिक नेता अयातुल्ला सैय्यद अली खामेनेई ने देश में पांच दिनों के शोक की घोषणा की है और अंतरिम राष्ट्रपति के रूप में कार्यभार संभालने के लिए उपराष्ट्रपति मोहम्मद मोखबर की नियुक्ति को भी मंजूरी दे दी है। भारत ने भी रईसी के सम्मान में मंगलवार को एक दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है। गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘दिवंगत गणमान्य व्यक्तियों के सम्मान में भारत सरकार ने निर्णय लिया है कि 21 मई को पूरे भारत में एक दिन का राजकीय शोक रहेगा।’’

ईरान में एक तरफ जहां लोग अपने राष्ट्रपति के दुर्घटना में मारे जाने से दु:खी हैं, वहीं कुछ लोग जश्न मना रहे हैं। रईसी की मौत की पुष्टि होने के बाद इन लोगों ने पटाखे फोड़कर जश्न का इजहार किया है। दरअसल, रईसी की ख्याति एक क्रूर और कट्टरपंथी नेता के तौर पर रही है। वो अपने पीछे एक ऐसी विरासत छोड़ गए हैं, जहां हिंसा और प्रतिशोध के कई किस्से हैं।

डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, रईसी की मौत पर जश्न मनाने वालों में 62 वर्षीय ईरानी महिला मीनू मजीदी की बेटियां भी शामिल हैं, जो सितंबर 2022 में महसा अमिनी की मौत के बाद सुरक्षा कार्रवाई में हताहत होने वालों में शामिल थीं। मजीदी की बेटियों ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो साझा किया, जिसमें उन्हें राष्ट्रपति की मौत पर जश्न मनाते हुए देखा गया है।

इसके तुरंत बाद, दो अन्य ईरानी महिलाओं, मेरसेदेह शाहीनकर और सिमा मोरादबेगी ने भी नाचकर और मुस्कुराकर रईसी की मौत पर खुशी जाहिर की। सुरक्षा बलों द्वारा 2022 के विरोध प्रदर्शन के दौरान शाहीनकर को अंधा कर दिया गया था, जबकि एक सशस्त्र गार्ड द्वारा करीब से गोली मारे जाने के कारण मुरादबेगी को अपना एक हाथ गंवाना पड़ा था। कई माडिया रिपोर्ट्स में यह कहा गया है कि सोशल मीडिया पर इस तरह के कई वीडियो क्लिप्स पोस्ट किए गए हैं, जिनमें लोग राष्ट्रपति रईसी की मौत पर आतिशबाजी कर जश्न मनाते दिख रहे हैं। हालांकि, किसी भी मीडिया संस्थान ने उन वीडियो की प्रमाणिकता की पुष्टि नहीं की है।