ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशमालदीव के नए राष्ट्रपति ने बदला रिवाज, भारत को छोड़ इस देश का किया रुख; क्या है मुइज्जू की चाल?

मालदीव के नए राष्ट्रपति ने बदला रिवाज, भारत को छोड़ इस देश का किया रुख; क्या है मुइज्जू की चाल?

परंपराओं को तोड़ते हुए, मुइज्जू राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने से पहले भी विदेश यात्रा करते रहे हैं, जिसका प्राथमिक उद्देश्य भारत पर निर्भरता कम करने के लिए फंडिंग के दूसरे विकल्पों का पता लगाना है।

मालदीव के नए राष्ट्रपति ने बदला रिवाज, भारत को छोड़ इस देश का किया रुख; क्या है मुइज्जू की चाल?
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,मालेTue, 28 Nov 2023 03:31 PM
ऐप पर पढ़ें

मालदीव के नए राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू ने दशकों पुराना रिवाज तोड़ दिया। उन्होंने भारत आने के बजाय एक इस्लामिक देश का रुख किया है। मुइज्जू अपनी अपनी पहली आधिकारिक यात्रा के लिए तुर्की गए हैं। इससे पहले मालदीव के राष्ट्रपति चुनाव जीतकर अपने सबसे पहले विदेशी दौरे के लिए भारत का रुख करते आ रहे हैं। हालांकि मालदीव के नए राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू ने रविवार को भारत आने के बजाय अपनी पहली यात्रा के लिए तुर्की रवाना होकर दशकों पुराना रिवाज बदल दिया।

अपनी यात्रा के दौरान, मोहम्मद मुइज्जू ने दोनों देशों के बीच सहयोग के अवसरों और राजनयिक संबंधों को मजबूत करने के लिए तुर्की सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की। मालदीव के राष्ट्रपति कार्यालय के अनुसार, मालदीव के राष्ट्रपति एक उच्च-स्तरीय प्रतिनिधिमंडल के साथ तुर्की की यात्रा के लिए अपनी पत्नी (प्रथम महिला) के साथ गए हैं। मालदीव राष्ट्रपति कार्यालय की विज्ञप्ति में कहा गया, "तुर्किये (तुर्की) राष्ट्रपति एर्दोआन ने कहा कि वह और तुर्किये के लोग इस बात से सम्मानित महसूस कर रहे हैं कि राष्ट्रपति डॉ. मुइज्जू ने मालदीव के राष्ट्रपति के रूप में अपनी पहली आधिकारिक यात्रा के लिए तुर्किये को चुना।"

वैसे आपको बता दें कि परंपराओं को तोड़ते हुए, मुइज्जू राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने से पहले भी विदेश यात्रा करते रहे हैं, जिसका प्राथमिक उद्देश्य भारत पर निर्भरता कम करने के लिए फंडिंग के दूसरे विकल्पों का पता लगाना है। सीधे शब्दों में कहें तो मुइज्जू भारत को किनारे करना चाहते हैं। इस महीने की शुरुआत में, उन्होंने संयुक्त अरब अमीरात (UAE) का दौरा किया और माले हवाईअड्डा परियोजना के लिए अबू धाबी फंड से 80 मिलियन डॉलर का आश्वासन लेकर आए। बता दें कि भारत ने भी इस परियोजना के विस्तार के लिए 136.6 मिलियन डॉलर की क्रेडिट लाइन दी थी। अब टॉप अप फंडिंग पर यूएई के आश्वासन का मतलब है कि मालदीव को क्रेडिट के दूसरे राउंड के लिए भारत से जुड़ने की जरूरत नहीं है।

तुर्की की अपनी यात्रा के बाद, मुइज्जू 30 नवंबर को संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (सीओपी 28) में भाग लेने के लिए संयुक्त अरब अमीरात के लिए फिर रवाना होंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी सीओपी 28 में भाग लेंगे, लेकिन दोनों नेताओं की पहली बार मुलाकात की संभावना कम है। मालदीव के राष्ट्रपति चुनाव में भारत समर्थक उम्मीदवार को हराकर मुइज्जू ने चुनाव जीता है। 

नेपाल के प्रधानमंत्री प्रचंड ने जब पहली बार प्रधान मंत्री के रूप में कार्यभार संभाला था तब उन्होंने भी भारत का दौरा नहीं किया था और इसके बजाय उन्होंने चीन को अपना पहला ठिकाना बनाया था। हालांकि, प्रधानमंत्री पद पर अपने पहले कार्यकाल के दौरान मुश्किलों के बाद, उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि अगले दो बार प्रधानमंत्री बनने पर उन्होंने सबसे पहले भारत का दौरा किया।