ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News विदेशकौन हैं भारतीय मूल की सुएला ब्रेवरमैन, यूके में जिन्हें दो बार छोड़ना पड़ा पद; सुनक से पहले भी हुआ था ऐक्शन

कौन हैं भारतीय मूल की सुएला ब्रेवरमैन, यूके में जिन्हें दो बार छोड़ना पड़ा पद; सुनक से पहले भी हुआ था ऐक्शन

भारतीय मूल की सुएला ब्रेवरमैन को यूके में दो बार मंत्रिपद से हटाया जा चुका है। इससे पहले लिज ट्रस के कार्यकाल के दौरान उन्हें एक ईमेल भेजने के मामले में हटा दिया गया था।

कौन हैं भारतीय मूल की सुएला ब्रेवरमैन, यूके में जिन्हें दो बार छोड़ना पड़ा पद; सुनक से पहले भी हुआ था ऐक्शन
Ankit Ojhaलाइव हिंदुस्तान,लंदनTue, 14 Nov 2023 09:01 AM
ऐप पर पढ़ें

यूके के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने गृह मंत्री सुएला ब्रेवरमैन को गृह मंत्री पद से हटा दिया है। सुएला भारतीय मूल की महिला राजनेता हैं। बताया जा रहा है कि सुनक पर उनको हटाने का दबाव था। बीते एक साल 22 महीने के दौरान दो बार उन्हें पद से हटाया जा चुका है। सुएला पर यह ऐक्शन फिलिस्तीनी रैली को लेकर पुलिस के खिलाफ बयान देने की वजह से लिया गया है। सरकार का कहना है कि उन्होंने जनता के मन में पुलिस के लिए विरोध भरा। गाजा में सीजफायर की मांग लेकर फिलिस्तीन समर्थक लंदन में रैली निकाल रहे थे। ब्रेवरमैन ने कहा था कि पुलिस ने इन प्रदर्शनकारियों के खिलाफ नरमी बरती। 

सुएला ने यूके के अखबार में एक आर्टिकल लिखकर कहा था कि दोनों तरफ ही कुछ उपद्रवी थे। बता दें कि फिलिस्तीनी समर्थकों के जवाब में लंदन की सड़कों पर प्रदर्शन किए गए थे। इसके बाद दोनों गुटों में झड़प हो गई थी। लंदन की पुलिस ने इस मामले में 126 लोगों को गिरफ्तार किय गाय था। वहीं सुएला का कहना था कि पुलिस ने फिलिस्तीन समर्थकों पर कड़ा ऐक्शन नहीं लिया गया। अब सरकारी बयान में कहा गया है कि उनकी बातों सो जनता में पुलिस के प्रति भरोसे के कम किया है। 

पहले भी पद से हटाई जा चुकी हैं सुएला
अक्टूबर 2022 में भी सुएला को पद से हटा दिया गया था। उनपर आरोप था कि उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री लिज ट्रस के अधिकारों का हनन किया है। उन्होंने अपने साथी सांसद को अपनी निजी ईमेल आईडी से मेसेज भेजा था जो कि मंत्री के लिए नियमों के खिलाफ था। हालांकि एक सप्ताह बाद ही जब लिज ट्रस ने इस्तीफा दे दिया तो सुनक की नई सरकार में सुएला की वापसी हो गई। 

सुएला ब्रेवरमैन का पूरा नाम सू-एलेन फर्नांडीज है जो कि क्रिस्टी फर्नांडीज और उमा फ्रनांडीज की बेटी हैं। उमा भारतीय मूल की मॉरिशस से हैं। 1960 में ही वह यूके आ गए थे। उन्होंने गोवा क्रिश्चियन ओरिजिन की केन्याई क्रिस्टी फर्नांडीज से शादी की। सुएला की मां क्रिस्टी भी कंजरवेटिव पार्टी में रह चुकी हैं। वह काउंसिलर रह चुकी हैं। उन्होंने चुनाव भी लड़ा था लेकिन जीत हासिल नहीं कर पाईं। स्कूल में पढ़ाई के दौरान ही सुएला के मां बाप ने उनके नाम को शॉर्ट कर दिया था। उन्होंने कैंब्रिज के क्वीन्स कॉलेज से कानून की पढ़ाी की। वह यूनिवर्सिटी की प्रेसिजेंड भी रह चुकी हैं। इसके अलावा उन्होंने फ्रांस से भी पढ़ाई की। 

डेविड कैमरन के कार्यकाल में सुएला की संसद में एंट्री हुई थी। ब्रेग्जिट के दौरान वह कंजरवेटिव पार्टी में इसके समर्थन में थीं। बोरिस जॉनसन के कार्यकाल में उन्हें जूनियर ब्रेग्जिट मिनिस्टर बनाया गया। इसके बकाद वह अटॉर्नी जनरल बनीं। उन्होने राएल ब्रेवरमैन से 2018 में शादी की थी जो कि एक यहूदी हैं।  


 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें