ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News विदेशकौन हैं अस्मा असद, जिन्हें हुआ ब्लड कैंसर; सीरिया के राष्ट्रपति कार्यालय को क्यों जारी करना पड़ा बयान

कौन हैं अस्मा असद, जिन्हें हुआ ब्लड कैंसर; सीरिया के राष्ट्रपति कार्यालय को क्यों जारी करना पड़ा बयान

Asma Assad Syria First Lady: सीरियाई राष्ट्रपति कार्यालय के बयान में कहा गया है कि 48 वर्षीय अस्मा असद को अब स्पेशल ट्रीटमेंट से गुजरना होगा।नतीजतन, वह सार्वजनिक गतिविधियों में शामिल नहीं होंगी।

कौन हैं अस्मा असद, जिन्हें हुआ ब्लड कैंसर; सीरिया के राष्ट्रपति कार्यालय को क्यों जारी करना पड़ा बयान
Pramod Kumarलाइव हिन्दुस्तान,दमिश्कTue, 21 May 2024 05:04 PM
ऐप पर पढ़ें

Asma Assad Syria's First Lady: सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद की पत्नी अस्मा असद फिर से गंभीर रूप से बीमार पड़ गई हैं। उनके  दफ्तर ने मंगलवार (21 मई) को यह घोषणा की कि सीरिया की प्रथम महिला अस्मा असद को ल्यूकेमिया (ब्लड कैंसर) का पता चला है। इससे पहले वह ब्रेस्ट कैंसर से भी जूझ चुकी हैं। हालांकि, इलाज के बाद तब डॉक्टरों ने उन्हें फिट करार दिया था लेकिन अब उन्हें कैंसर के दूसरे रूप यानी ब्लड कैंसर से पीड़ित बताया गया है।

सीरियाई राष्ट्रपति कार्यालय के बयान में कहा गया है कि 48 वर्षीय अस्मा असद को अब स्पेशल ट्रीटमेंट के दौर से गुजरना होगा।  नतीजतन, वह सार्वजनिक गतिविधियों में शामिल नहीं हो पाएंगी। उन्हें इलाज के लिए सार्वजनिक जीवन से अलग रहना होगा। बयान में कहा गया है कि लंबे चिकित्सीय परीक्षण और जांच के बाद प्रथम महिला में माइलॉयड ल्यूकेमिया और उसके कई गंभीर लक्षणों का पता चला है। 

कौन हैं अस्मा असद?
अस्मा असद मूल रूप से सेंट्रल सीरिया की रहने वाली हैं लेकिन उनका जन्म 11 अगस्त 1975 को लंदन में हुआ है। वह वहीं पली-बढ़ी हैं।  उनके पिता फवाज़ अख़्र्स लंदन में क्रॉमवेल अस्पताल के कार्डियोलॉजिस्ट थे। उनकी माता सहार अख्तर थीं, जोलंदन स्थित सीरियाई एम्बेसी में बतौर फर्स्ट सेक्रेटरी रह चुकी थीं। ये दोनों सीरियाई नागरिक थे।

असमा के माता-पिता सुन्नी मुसलमान हैं, जिनका होम्स शहर से ताल्लुक रहा है। वह लंदन के एक्टन में बड़ी हुईं।  उन्होंने 1996 में लंदन के ही किंग्स कॉलेज से कंप्यूटर साइंस में प्रथम श्रेणी में ग्रैजुएशन की डिग्री ली। इसके बाद उन्होंने फ्रांसीसी साहित्य में भी डिप्लोमा के साथ स्नातक किया। वह अंग्रेजी भाषा  के साथ-साथ अरबी, फ्रेंच और स्पेनिश बोलती हैं। उन्होंने 1998 में जेपी मॉर्गन में इन्वेस्मेंट बैंकर और बायोटेक्नोलॉजी स्पेशलिस्ट के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की थी। उन्होंने हारवर्ड यूनिवर्सिटी से MBA भी किया है। 

साल 2000 में उन्होंने बशर-अल असद से शादी की थी। इसके बाद उन्होंने अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया था। 2019 से पहले एक साल तक उन्होंने ब्रेस्ट कैंसर का भी इलाज करवाया था। इसके बाद उन्होंने खुद स्वस्थ होने की जानकारी दी थी।  वह एक विवादास्पद शख्सियत रही हैं, जो पश्चिमी देशों के प्रतिबंधों का सामना कर रही हैं। सीरियाई संघर्ष के दौरान उन्होंने अमेरिका समेत पश्चिमी देशों के खिलाफ कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है। अमेरिकी मैग्जीन वॉग ने फरवरी 2011 में अपने कवर पेज पर फैशन लेखिका जोन जूलियट बक द्वारा असद पर 'रेगिस्तान में एक गुलाब'शीर्षक से स्टोरी छापी थी।